- Advertisement -
Home News थार एक्सप्रेस रद्द, नहीं जाएगी सीमा पार

थार एक्सप्रेस रद्द, नहीं जाएगी सीमा पार

- Advertisement -

– पाकिस्तान से पिछले फेरे में आए 58 यात्री फंसे
जोधपुर। जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 निष्क्रिय करने के बाद भारत-पाक संबंधों में तनाव का असर दोनों देशों के बीच चलने वाली रिश्तों की रेल ‘थार लिंक एक्सप्रेस’ (Thar Link Express)पर दिखा। रेल मंत्रालय(Railway Ministry) ने भारत और पाकिस्तान के बीच चलने वाली थार लिंक एक्सप्रेस को आगामी आदेश तक रद्द(Cancelled) कर दिया। इस कारण शुक्रवार मध्य रात्रि को 12.50 पर भगत की कोठी उपनगरीय रेलवे स्टेशन से चलने वाली गाड़ी संख्या 14889/90 थार एक्सप्रेस रवाना नहीं हुई। मुनावाब से पाकिस्तान के जीरो प्वाइंट तक चलने वाली गाडी संख्या 00406/05 थार एक्सप्रेस को भी रद्द कर दिया गया है। थार एक्सप्रेस रद्द होने से पिछले फेरे में पाक(Pak Passangers) से आए 58 यात्री फंस(Stranded) गए हैं। शुक्रवार मध्य रात्रि को जाने वाली थार से पाक जाने के लिए 45 यात्रियों ने टिकिट बुक करा लिए थे।
-धारा 370 समाप्ति के बाद से ही संशय
भारत सरकार की ओर से गत 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 समाप्त करने के बाद से भारत-पाक की ओर से थार एक्सप्रेस के संचालन पर संशय बना हुआ था। 5 अगस्त से पहले 3 अगस्त को थार का सफलतापूर्वक फेरा हुआ था। 5 अगस्त के बाद 10 अगस्त का फेरा भी भय व संशय के माहौल में हुआ था। पाक रेलमंत्री की ओर से दिल्ली-लाहौर के बीच चलने वाली समझौता एक्सप्रेस और उसके बाद भगत की कोठी-कराची के बीच चलने वाली थार एक्सप्रेस का संचालन रद्द करने के बयान दिए थे। इसके बाद भी थार का संचालन हुआ था।
-भारत की थार के फेरे का अंतिम माह था
थार एक्सप्रेस के संचालन करार के तहत पहले छह माह भारत और अगले छह माह पाकिस्तान की थार फेरे करती है। इसी करार के तहत भारत की थार का पाकिस्तान के जीरो प्वाइंट तक फेरे करने का अंतिम माह था। सितम्बर से फरवरी तक पाकिस्तान की थार को भारत के मुनाबाव तक फेरे करने थे। भारत की ओर से चलने वाली थार एक्सप्रेस का पाकिस्तान के लिए यह इस माह का तीसरा फेरा होने वाला था, जो रद्द कर दिया गया।
-चल रही दोस्ती की ट्रेन
1965 के युद्ध से पहले जोधपुर से कराची तक रेल संचालन होता था। युद्ध में रेल पटरियां क्षतिग्रस्त होने और दोनों देशों के बीच तनाव होने से रेलमार्ग बंद कर दिया गया। इसके 41 साल बाद 18 फरवरी, 2006को यह ट्रेन वापस शुरू की गई। इस वर्ष फरवरी-मार्च में पुलवामा आतंकी हमला व सर्जिकल स्ट्राइक के बाद तनाव के बावजूद इस ट्रेन का संचालन होता रहा। रेलवे सूत्रों के अनुसार 2006 से अब तक करीब सवा तेरह साल में करीब साढ़े चार लाख यात्रियों ने इस ट्रेन से यात्रा की है।
……………………
-एक नजर
– 2006 के बाद अब तक कुल 27 फेरे इस ट्रेन के रद्द हुए
– 13 साल में करीब साढ़े चार लाख यात्रियों ने इस ट्रेन से यात्रा की है
– 381 किमी का सफर तय करती है थार
– 7 घंटे 05 मिनट की रेल यात्रा…………………………
‘रेल मंत्रालय की ओर से आगामी आदेश तक थार एक्सप्रेस का संचालन रद्द कर दिया है। रेलवे के आगामी आदेश तक थार का संचालन नहीं होगा।
-गोपाल शर्मा, वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी, जोधपुर रेल मंडल

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

बाइक से पेट्रोल निकालकर युवक को स्कूटी सहित जलाया, सीसीटीवी फुटेज में दिखे तीन युवक

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के पिपराली ब्लॉक के पलासिया गांव में शुभकरण हत्याकांड में पुलिस को कई अहम सुराग मिले है। पुलिस...
- Advertisement -

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

किसान बिल को लेकर फूटा सपना चौधरी का गुस्सा

संसद में पास हो चुके दो किसान बिलों के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन की हलचल पूरे देश में फैल रही है. कांग्रेस सहित कई विपक्षी पार्टियां...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

Related News

बाइक से पेट्रोल निकालकर युवक को स्कूटी सहित जलाया, सीसीटीवी फुटेज में दिखे तीन युवक

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के पिपराली ब्लॉक के पलासिया गांव में शुभकरण हत्याकांड में पुलिस को कई अहम सुराग मिले है। पुलिस...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

किसान बिल को लेकर फूटा सपना चौधरी का गुस्सा

संसद में पास हो चुके दो किसान बिलों के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन की हलचल पूरे देश में फैल रही है. कांग्रेस सहित कई विपक्षी पार्टियां...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

कंपनियों को मिल जाएगा कर्मचारियों को किसी भी क्षण निकालने का अधिकार

मोदी सरकार के नए प्रस्तावित कानून के तहत अब हर चार में से तीन कंपनियों को अपने कर्मचारियों को किसी भी क्षण कंपनी से...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here