- Advertisement -
Home News अबकी बार सोशल मीडिया पर सवार छात्रसंघ चुनाव प्रचार

अबकी बार सोशल मीडिया पर सवार छात्रसंघ चुनाव प्रचार

- Advertisement -

बीकानेर. महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों में छात्रसंघ चुनाव का रंग चढ़ चुका है। छात्र नेता जनसम्पर्क में जुटे हुए हैं। इस बार छात्रसंघ चुनाव पूरी तरह से सोशल मीडिया के बलबूते लड़ा जा रहा है। हर युवा की जेब में आए मोबाइल ने चुनाव प्रचार का तरीका बदल कर रख दिया है। हाल ही हुए विधानसभा और लोकसभा चुनाव में जिस तरह से सोशल मीडिया और राजनीतिक दलों की आइटी सैल ने कमान संभाली थी, ठीक उसी तरह छात्र नेताओं की चुनाव मंडली आइटी का कार्य संभाल चुकी है।
 
छात्रसंघ चुनाव में हाईटेक प्रचार-प्रसार का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि संभाग के सबसे बड़े डूंगर कॉलेज, छात्राओं के एमएस कॉलेज और एमजीएसयू के करीब १५ हजार विद्यार्थियों में से ८५ प्रतिशत के अकाउंट सोशल मीडिया पर है। छात्र नेता फेसबुक अकाउंट, वाट्सएेप ग्रुप और इंस्टाग्राम सहित अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से अपनी बात छात्र-छात्राओं तक पहुंचा रहे हैं।
अलग-अलग ग्रुपछात्र संगठन और छात्र नेता सोशल मीडिया पर अलग-अलग कॉलेजों के वाट्सएेप और एफबी ग्रुप बनाकर छात्रों को संगठन से जुडऩे व समर्थन देने की अपील कर रहे है। इन ग्रुपों में क्रिएटिव पोस्ट के साथ ऑडियो और वीडियो पोस्ट डाली जा रही है।चुनाव के लिए बन रहे पैरोडी गीत
विधानसभा और लोकसभा चुनाव की तर्ज पर छात्रसंघ चुनाव में भी प्रत्याशियों व छात्र संगठनों के पैरोडी गीतों की बहार आ गई है। सोशल मीडिया पर इन गीतों को वायरल कर छात्र नेता अपना प्रचार कर रहे है। इनमें ‘सब की आंखों का तारा सेÓ इन दिनों खूब ट्रेंड कर रहा है।
प्रचार-प्रसार के लिए बनाई टीमेंचुनाव का समय नजदीक आते ही प्रचार में भी तेजी आ रही है। छात्र नेता कई दिन पहले ही अपनी दावेदारी दर्ज करवा चुके हैं। संभावित उमीदवारों ने सोशल मीडिया में विशेष प्रचार-प्रसार के लिए एक टीम भी बना रखी है, जो अपने नेता की फोटो, वीडियो शेयर करने में जुटी रहती है। साथ ही सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर पक्ष में कमेंट और लाइक करवाकर दावेदारी मजबूत करने में लगे हैं।
 
नियमों की आवश्यकताअभी जो चुनाव की टीम बनी है, वह लिंगदोह समिति 2010 की बनी, उस समय सोशल मीडिया पर ज्यादा प्रचार-प्रसार नहीं होता था। अब सोशल मीडिया का उपयोग सबसे अधिक होने लगा है। एेसे में इसके लिए नियम बनाने की आवश्यकता है। डॉ. रवीन्द्र मंगल, मुख्य चुनाव अधिकारी, डूंगर कॉलेज बीकानेर
 
मिलती है नई ऊर्जासोशल मीडिया पर प्रचार चुनाव का अहम हिस्सा बन चुका है। इसमें युवा शक्ति छात्रसंघ प्रतिनिधि का जोश और उत्साह बढ़ाती है। सोशल मीडिया से नई ऊर्जा मिलती है। छात्र नेता अपना विजन सबके सामने रखता है। यह कम खर्च और अधिक युवाओं तक बात पहुंचाने का अच्छा माध्यम है।मोनिका, कॉलेज छात्रा

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

कोरोना ने फिर पार किया शतक, एक परिवार में 17 पॉजिटिव

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में रविवार को फिर कोरोना का कहर सामने आए। जिले में दिनभर में 105 नए कोरोना पॉजिटिव केस...
- Advertisement -

आप गलत सोचते है, राजा चौपट नहीं राजा चौकस है.

इधर हम फिल्म एक्टरों के नशे की कहानियों में डूबे रहे, उधर चौकस राजा ने किसानों पर बिल पास करा लिए. अब देखो सरकार...

राजस्थान में आईटीआई में प्रवेश से मोहभंग, 75 फीसदी कॉलेजों की सीट खाली

सीकर. प्रदेश के आईटीआई विद्यार्थियों का ऑनलाइन प्रवेश से पूरी तरह से मोहभंग हो गया है। ऑनलाइन केन्द्रीयकृत प्रवेश के बाद भी प्रदेश...

प्रियंका गांधी चुपचाप बदलाव ला रही हैं- अभिषेक मनु सिंघवी

आजादी के बाद कांग्रेस अपने सबसे बुरे दौर में चल रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के कई नेता अपने भाषणों...

Related News

कोरोना ने फिर पार किया शतक, एक परिवार में 17 पॉजिटिव

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में रविवार को फिर कोरोना का कहर सामने आए। जिले में दिनभर में 105 नए कोरोना पॉजिटिव केस...

आप गलत सोचते है, राजा चौपट नहीं राजा चौकस है.

इधर हम फिल्म एक्टरों के नशे की कहानियों में डूबे रहे, उधर चौकस राजा ने किसानों पर बिल पास करा लिए. अब देखो सरकार...

राजस्थान में आईटीआई में प्रवेश से मोहभंग, 75 फीसदी कॉलेजों की सीट खाली

सीकर. प्रदेश के आईटीआई विद्यार्थियों का ऑनलाइन प्रवेश से पूरी तरह से मोहभंग हो गया है। ऑनलाइन केन्द्रीयकृत प्रवेश के बाद भी प्रदेश...

प्रियंका गांधी चुपचाप बदलाव ला रही हैं- अभिषेक मनु सिंघवी

आजादी के बाद कांग्रेस अपने सबसे बुरे दौर में चल रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के कई नेता अपने भाषणों...

कविता:ये भारत का किसान है!

हल लेकर खेतों की ओर आज कोई निकल पड़ा है , फटी जूती, फटे कपड़े बारिश की आस में चल पड़ा है,...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here