- Advertisement -
Home Rajasthan News Sikar news अधिकारियों ने खेला ऋण माफी का खेल

अधिकारियों ने खेला ऋण माफी का खेल

- Advertisement -

सीकर. मनमर्जी कहें या किसान का दुर्भाग्य। फसली ऋण की पासबुक में ऋण की कोई बकाया राशि भी नहीं और किसान के नाम से सरकारी ऋणमाफी का लाभ उठा लिया गया। यह सुनने में भले ही अजीब लगे लेकिन यह हकीकत दांतारामगढ़ के डूकिया ग्राम सेवा सहकारी समिति में देखने को मिली है। कर्ज के बोझ तले डूबे किसानों को उबारने के लिए प्रदेश सरकार ने ५० हजार रुपए तक के फसली ऋण माफी योजना को सरकार के कारिंदे ही चूना लगा है। आश्चर्य की बात है कि सरकार को चूना लगाने वाले इस वाकये की जानकारी उच्चाधिकारियों को होने के बाद भी इस संबंध में कोई कार्रवाई तक नहीं की जा रही है। इस प्रमाण पत्र में ऋणमाफी की राशि को कहां भेजा इसकी जानकारी तक किसान को नहंी दी जा रही है। अब किसान इस ऋणमाफी की राशि को लेने के लिए जीएसएस और सहकारी बैंक के चककर लगा रहा लेकिन किसी प्रकार की कोई कार्रवाई तक नहीं हुई है। किसान का आरोप है कि जीएसएस पर लम्बे समय से मनमर्जी का खेल चल रहा है मामले की निष्पक्ष जांच तो कई भोले-भाले किसान इस ठगी से बच सकते हैं। इस जिम्मेदार किसान को फौरी आश्वासन देते रहे बाद में जब किसान ने लिखित शिकायत दी तो अधिकारी मामले की जानकारी से बचते रहे। यह है मामलाप्रदेश की सरकार ने ३० नवम्बर २०१८ को बकाया राशि वाले किसानों के दो लाख हजार रुपए तक के फसली ऋण माफ करने की घोषणा की। डूकिया ग्राम सेवा सहकारी समिति में यहीं से खेल शुरू हुआ। जीएसएस के कर्मचारियों ने ऋणमाफी की सूची में किसान का नामतो शामिल कर लिया लेकिन किसान पर दवाब बनाया कि वो ऋण की बकाया राशि जमा करवा देगा तो उसे ऋणमाफी का पैसा मिल जाएगा। इस पर किसान भागीरथमल ने पांच नवम्बर २०१८ को अपने फसली ऋण ५०१३३ रुपए और ब्याज के १५१९० रुपए रसीद संख्या ४८१८०७ के जरिए जमा करवा दिए और व्यवस्थापक ने पासबुक में यह राशि प्रार्थी के खाते में जमा कर ली और फसली ऋण की राशि को शून्य दर्शा दिया। जबकि ऋणमाफी की पात्रता की प्रमुख शर्त थी कि संबंधित किसान का ३० नवम्बर २०१८ को बकाया होगा तो ही वह किसान पात्रता के दायरे में आएगा। ऋणमाफी का प्रमाण पत्र मिलने के बाद भी किसान को न तो बकाया राशि का भुगतान हो सका ओर न ही किसान की पासबुक की इस राशि की एंट्री की गई। इस प्रकार किसान और सरकार को इस राशि का चूना लगा दिया गया।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

क्या मोदी सरकार किसानों को एमएसपी की गारंटी दे सकती है? जानिए इस सरकार की हक़ीक़त

बीजेपी को इसके जन्म बल्कि इसके पूर्ववर्ती अवतार जनसंघ के समय से ही व्यापारी समर्थक पार्टी माना जाता है. आज की किसान समस्या के...
- Advertisement -

सरकार और किसानों के बीच आज बातचीत, ठोस नतीजा नहीं निकलने पर किसानो ने दी बड़ी चेतावनी

केंद्र के कृषि कानून के खिलाफ किसान दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. देशभर में जारी किसानों के विरोध प्रदर्शन के बीच किसान संगठनों...

राहुल गांधी ने बिहार का उदाहरण देकर मोदी सरकार को घेरा

कांग्रेस सांसद ने कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में फिर से ट्वीट किया है. राहुल गांधी ने कहा है...

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने शुक्रवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित किया

प्रियंका गांधी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि यूपी में जहां भी दलितों के साथ अत्याचार हो वहां आप खड़े रहें, उनकी...

Related News

क्या मोदी सरकार किसानों को एमएसपी की गारंटी दे सकती है? जानिए इस सरकार की हक़ीक़त

बीजेपी को इसके जन्म बल्कि इसके पूर्ववर्ती अवतार जनसंघ के समय से ही व्यापारी समर्थक पार्टी माना जाता है. आज की किसान समस्या के...

सरकार और किसानों के बीच आज बातचीत, ठोस नतीजा नहीं निकलने पर किसानो ने दी बड़ी चेतावनी

केंद्र के कृषि कानून के खिलाफ किसान दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. देशभर में जारी किसानों के विरोध प्रदर्शन के बीच किसान संगठनों...

राहुल गांधी ने बिहार का उदाहरण देकर मोदी सरकार को घेरा

कांग्रेस सांसद ने कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में फिर से ट्वीट किया है. राहुल गांधी ने कहा है...

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने शुक्रवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित किया

प्रियंका गांधी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि यूपी में जहां भी दलितों के साथ अत्याचार हो वहां आप खड़े रहें, उनकी...

सीकर- जयपुर की पुलिस सबसे स्मार्ट, सवाईमाधोपुर की सबसे फिसड्डी

सीकर. एक दौर था जब केवल डंडे के आधार पर पुलिस का चेहरा तय किया जाता था। समय के बदलते दौर के साथ...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here