- Advertisement -
Home Rajasthan News Sikar news महाशिवरात्रि विशेष:  देश के किसी भी कोने में हैं... सारे तीर्थ जाने...

महाशिवरात्रि विशेष:  देश के किसी भी कोने में हैं… सारे तीर्थ जाने से पहले चले आइए…यहां शिवलिंग के दूसरे छोर का ना मिलना आज भी रहस्य

- Advertisement -

Mahashivratri special: There are any corner of the country …-महाशिवरात्रि पर बालेश्वर के दर्शन मात्र से ही होती मनोकामना पूरी-हजारों की संख्या में पहुंचते है श्रद्धालुसीकर. राजस्थाान के टोडा गांव से 10 किमी दूर स्थित अरावली की उपत्यकाओं में पुरातात्विक महत्व के साथ आध्यामिक अद्भुत तीर्थ स्थल जो स्वयंभू बालेश्वर के नाम से प्रसिद्ध है। बालेश्वर शिवलिंग के बारे में जनश्रुति है कि प्राचीन काल में आदिवासी चरवाहों के बिना ही गायें स्वयं बालरूप शिव का दुग्धाभिषेक करती थी। बालेश्वर धाम शिवलिंग का भी विशेष स्थान है।
इस शिवलिंग की पूजा करने का भी विशेष महत्व है। वहीं इस शिवलिंग की कहानी पुराणों के साथ अचरज से जुड़ी हुई है। बताया जाता है कि विश्व का यह शिवलिंग सबसे बड़ा है, जिसके दूसरे छोर का अभी तक पता नहीं चल पाया। धाम के पुजारी लीलाराम योगी ने अनुसार यह शिवलिंग ज्योतिर्लिंग है।
बालेश्वर शिवलिंग के बारे में राज्य संस्कृत महाविद्यालय के ज्योतिष विभागाध्यक्ष पंडित कौशलदत्त शर्मा ने बताया कि प्राचीनकाल से ही आदिदेव स्वयंभू भगवान शिव के बालस्वरूप की विशाल शिवलिंग के रूप में मान्यता रही है।
लोकमान्यता है कि बालेश्वर महादेव स्वयंभू शिवलिंग है अर्थात् स्वयं धरती का सीना चीरकर प्रकट हुए हैं। मन्दिर परिसर की उत्तरी भित्ति पर गणेश प्रतिमा के नीचे प्राकृत भाषा में लिखा एक शिलालेख प्राप्त होता है जो इस स्थान की प्राचीनता और भव्यता का गुणगान करता है।
सूर्यवंशी राजाओं ने हजारों साल पहले इस स्वयंभू शिवलिंग की सुरक्षा के लिए बहुत ही विशाल शिव मन्दिर बनवाया था जिसकी मान्यता एक तीर्थक्षेत्र के रूप पूरे भारतवर्ष में थी। पाटन राज परिवार के साथ कई आदिवासी जातियों के तो ये कुलदेवता रहे हैं। अभी तक भी पाटन राज दरबार के साथ क्षेत्र के सभी वर्गों की इस स्थान के प्रति लौकिक आस्था की अलौकिक छवी देखने को मिलती है।
आयुष्यवृद्धि और सौभाग्य की कामनाओं के लिए यहां पूजा का विशेष महत्व है। राजकीय संकट से शीघ्र मुक्ति और पुत्र प्राप्ति तो भगवान बालेश्वर नाथ की पूजा का विशेष पुण्य है। शिवरात्रि पर दर्शन मात्र से ही आबाल वृद्ध नर-नारियों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है।
बालेश्वर धाम में अमृत कुंड भी रहस्य बना हुआ है। मंदिर के पीछे की ओर गुलर के पेड़ की जड़ से श्रद्धालु पानी निकालकर स्नान करते है। गुलर की जड़ में पानी कहां व कब से आ रहा है यह कोई नहीं जानता है। इसे भी चमत्कार ही माना जाता है। वहीं इस गुलर की जड़ में बना हुआ कुंड का पानी भी कभी खत्म नहीं होता।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

रोचक: गुम भैंसों का हुआ फेसबुक लाइव, पांच दिन में ढूंढ निकाला असली हकदार

Interesting: Facebook Live of missing buffaloes... -सोशल मीडिया की मदद से मिली लापता भैंसें-व्हाट्सऐप ग्रुप और फेसबुक बने मददगारसीकर. अमूमन सोशल मीडिया(social media) की...
- Advertisement -

9 दिन बाद खुल जाएंगे स्कूल, नौनिहालों की डे्रस तय नहीं

फतेहपुर. राज्य सरकार ने दो अगस्त से स्कूल खोलने की इजाजत दे दी। सरकार ने सरकारी स्कूलों की ड्रेस बदलने की घोषणा कर...

मेडिकल कॉलेज को अस्पताल के लिए मिली जमीन

सीकर. सीकरवासियों के लिए कोरोनाकाल में राहतभरी खबर है। श्री कल्याण आरोग्य सदन सीकर ट्रस्ट ने मेडिकल कॉलेज के अस्पताल के लिए जमीन...

VIDEO: जेल में कैदियों के लिए खुलेगा पुस्तकालय, अच्छे साहित्य से बदलेंगे सोच

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले की शिवसिंहपुरा ओपन जेल में कैदियों के लिए पुस्तकालय खोला जाएगा। ताकि समय बिताने के साथ सद्साहित्य से...

Related News

रोचक: गुम भैंसों का हुआ फेसबुक लाइव, पांच दिन में ढूंढ निकाला असली हकदार

Interesting: Facebook Live of missing buffaloes... -सोशल मीडिया की मदद से मिली लापता भैंसें-व्हाट्सऐप ग्रुप और फेसबुक बने मददगारसीकर. अमूमन सोशल मीडिया(social media) की...

9 दिन बाद खुल जाएंगे स्कूल, नौनिहालों की डे्रस तय नहीं

फतेहपुर. राज्य सरकार ने दो अगस्त से स्कूल खोलने की इजाजत दे दी। सरकार ने सरकारी स्कूलों की ड्रेस बदलने की घोषणा कर...

मेडिकल कॉलेज को अस्पताल के लिए मिली जमीन

सीकर. सीकरवासियों के लिए कोरोनाकाल में राहतभरी खबर है। श्री कल्याण आरोग्य सदन सीकर ट्रस्ट ने मेडिकल कॉलेज के अस्पताल के लिए जमीन...

VIDEO: जेल में कैदियों के लिए खुलेगा पुस्तकालय, अच्छे साहित्य से बदलेंगे सोच

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले की शिवसिंहपुरा ओपन जेल में कैदियों के लिए पुस्तकालय खोला जाएगा। ताकि समय बिताने के साथ सद्साहित्य से...

अब नौकरी की दौड़ में शामिल होंगे बीएड इंटीग्रेटेड कोर्स के विद्यार्थी

सीकर. नियमों के पेंच में उलझे प्रदेश के दो लाख विद्यार्थियों के लिए राहतभरी खबर है। रीट परीक्षा से पहले उच्च शिक्षा विभाग...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here