- Advertisement -
Home News आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड ने रिटर्न के मामले में निफ्टी को पीछे...

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड ने रिटर्न के मामले में निफ्टी को पीछे छोड़ दिया

- Advertisement -

अर्थलाभ डॉटकॉम के आंकड़े बताते हैं कि परिसंपत्तियों के वर्गों के बीच में जब निवेश किया जाता है तो यह सहज निवेश के अनुभवों को लंबी अवधि में सुनिश्चित करता है। पिछले एक दशक में जब भी बाजार तेजी या मंदी में रहा है, तो निफ्टी 50 टीआरआई ने 10.2 फीसदी का रिटर्न दिया है, जबकि इसी अवधि में आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड के असेट अलोकेटर फंड ने 12.1 फीसदी का रिटर्न दिया है, वह भी जब इसका एक्सपोजर इक्विटी में केवल 41 फीसदी रहा है। इसका मतलब यह हुआ कि आपने अगर 2010 में निफ्टी में 10 लाख रुपए का निवेश किया होगा तो यह राशि बढ़कर 24,93,534 रुपए हो गई होगी, जबकि आईसीआईसीआई अलोकेटर फंड में यह बढ़कर 29,31,572 रुपए हो गई होगी। यानी निवेशकों को बेंचमार्क की तुलना ६में करीबन 4.50 लाख रुपए का अधिक फायदा हुआ है।यही नहीं, जब भी बेंचमार्क इंडाइसेस का रिटर्न सपाट रहा है, तब भी उपरोक्त फंड दो अंकों में रिटर्न देने में सफल रहा है, जिससे पता चलता है कि असेट अलोकेशन की रणनीति कितनी फायदेमंद रहती है। ऐसा देखा जाता है कि जब भी बाजार में गिरावट होती है, निवेशक तुरंत डर के मारे इक्विटी में बिकवाली करने लगते हैं। ऐतिहासिक रूप से भारत के बाहर भी ऐसा कई बार देखा गया है। जब भी बात इक्विटी निवेश और रणनीति की आती है तो निवेशकों को कम मूल्य पर खरीद कर ऊंचे मूल्य पर बेचने की रणनीति का पालन करना चाहिए। इसी तरह की रणनीति को अपनाते हुए आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल असेट अलोकेटर फंड निवेशकों को अच्छा लाभ देता है।अर्थलाभ डॉटकॉम के आंकड़ों के मुताबिक 2017 में अगस्त और सितंबर तथा 2018 में फरवरी और सितंबर ऐसे महीने रहे है, जब बाजार का मूल्यांकन अपने शीर्ष स्तर पर रहा है। रिटेल निवेशकों ने उस समय बाजार में 16,000 से 21,000 करोड़ रुपए का निवेश किए, जबकि दूसरी ओर जब बाजार का मूल्यांकन जनवरी और सितंबर 2013 में निचले स्तर पर था, निवेशकों ने 17,000 करोड़ रुपए बाजार से निकाल लिए। इसी तरह का रुझान मार्च 2014 में भी देखा गया, जब निवेशकों ने 13,000 करोड़ रुपए की निकासी की। इस तरह की आदत निवेशकों की वित्तीय स्थिति पर काफी बुरा असर डालती है। आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल इसके इलट असेट अलोकेशन का पालन करता है और इन हाउस मूल्यांकन मॉडल का पालन करता है जो तमाम मैक्रो और माइक्रो कारकों पर आधारित होता है। निवेशक ऐसे मामले में इस तरह के फंड में एसआईपी के जरिए भी निवेश कर सकते हैं। लेकिन यह भी देखना होगा कि यह निवेश लंबी अवधि के लिए हो।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

मलकेड़ा में सबसे कम मतों से जीती सरपंच, जानें कौन कहां कितने मतों से रहा विजयी

सीकर.लोकतंत्र के उत्सव में सोमवार को पिपराली पंचायत के मतदाता पूरी तरह रंगे हुए नजर आए। मतदाताओं ने अपने वोट की ताकत के...
- Advertisement -

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस की नई रणनीति, जानें संविधान के किस अनुच्छेद से ढूंढा जा रहा है तोड़

देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को कृषि और किसानों से जुड़े बिलों को मंजूरी दे दी है. मगर, विपक्ष अब भी कृषि...

पंचायत चुनाव में कोरोना पॉजिटिव सांसद सुमेधानंद सरस्वती ने दिया वोट

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले की पिपराली पंचायत समिति की 26 ग्राम पंचायतों में पंच व सरपंच के लिए हुए मतदान में सांसद...

सचिन पायलट का भाजपा पर फिर हमला

पायलट बोले- जब सरकार अपने घटक दल अकाली दल को ही नहीं समझा पाए तो किसानों को कैसे समझा पाएंगे. राजस्थान में कांग्रेस विधायक सचिन...

Related News

मलकेड़ा में सबसे कम मतों से जीती सरपंच, जानें कौन कहां कितने मतों से रहा विजयी

सीकर.लोकतंत्र के उत्सव में सोमवार को पिपराली पंचायत के मतदाता पूरी तरह रंगे हुए नजर आए। मतदाताओं ने अपने वोट की ताकत के...

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस की नई रणनीति, जानें संविधान के किस अनुच्छेद से ढूंढा जा रहा है तोड़

देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को कृषि और किसानों से जुड़े बिलों को मंजूरी दे दी है. मगर, विपक्ष अब भी कृषि...

पंचायत चुनाव में कोरोना पॉजिटिव सांसद सुमेधानंद सरस्वती ने दिया वोट

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले की पिपराली पंचायत समिति की 26 ग्राम पंचायतों में पंच व सरपंच के लिए हुए मतदान में सांसद...

सचिन पायलट का भाजपा पर फिर हमला

पायलट बोले- जब सरकार अपने घटक दल अकाली दल को ही नहीं समझा पाए तो किसानों को कैसे समझा पाएंगे. राजस्थान में कांग्रेस विधायक सचिन...

कविता: ओ सपनों में जीने वालों

कविता: ओ सपनों में जीने वालों ओ सपनो में जीने वालों,छुप-छुपकर न यूँ अश्क बहाओ।ख्वाब तुम्हारे भी है कुछ,ना उनको यूँ मिटाओ।सुख दुःख तो...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here