- Advertisement -
Home Rajasthan News Sikar news 22 बच्चों के सिर से उठा माता- पिता का साया

22 बच्चों के सिर से उठा माता- पिता का साया

- Advertisement -

सीकर. कोरोना संक्रमण का कहर अब भले ही कम हो रहा हो, लेकिन उसका दर्द गांव-गुवाड़ की गलियों में पसरा है। कहीं भविष्य के सपने तो कहीं अपनों को कोरोना ने छीन लिया। जिले के 22 बच्चों को काल बने कोरोना ने ऐसा दर्द दिया है कि मां के आंचल के साथ उनके सर से पिता का साया भी छूट गया। माता या पिता में से एक को खोने वाले बच्चों की संख्या का आंकड़ा सौ से अधिक हो सकता है। सरकारी तंत्र के साथ बाल कल्याण समिति कोरोना के दंश की स्थिति जानने के लिए उतरी तो यह चौकाने वाली जानकारी सामने आई। अब तक के सर्वे में समिति को जिले में 22 ऐसे बच्चे मिल चुके हैं, जिनके माता-पिता दोनों की मौत हो गई।
 
गंभीर है स्थिति…छह विद्यालयों में मिले 23 बच्चे
कोरोना ने कितना दर्द दिया है, इसका अंदाजा समिति को समिति को मिली महज छह विद्यालयों की रिपोर्ट से लगाया जा सकता है। रींगस, आभवास, फतेहपुर, बागरियावास, श्रीमाधोपुर और दीवराला में ही ऐसे 23 बच्चों की सूचना प्राप्त हुई है। जिनके माता या पिता में से एक की मौत हो चुकी है। समिति अब इन बच्चों के परिवारों से सम्पर्क करेगी और सरकार की ओर से दी जाने वाली सहायता की जानकारी दी जाएगी।
सरकार से पहले परिवार बना सहारा
कोरोना में माता-पिता को खोने वाले जिले के 22 बच्चों की जिम्मेदारी सरकार से पहले परिवार ने संभाल ली है। इन परिवारों की स्थिति पर नजर डाली जाए तो सामने आता है कि महज एक बच्चें के पिता सरकारी सेवा में थे। उसकी मां भी स्नातक तक पढी लिखी थी। इसके अलावा अन्य बच्चे सामान्य परिवार के ही है। समिति ने जब इन परिवारों से सम्पर्क किया तो सभी ने बच्चों को अपने पास ही रखने की इच्छा जाहिर की। हालांकि सभी ने सरकारी सहायता से जोडऩे का आग्रह किया। फतेहपुर के एक परिवार में चार दिन में पति-पत्नी दोनों का निधन हो गया। उनकी दो बालिकाएं है। इन परिवारों ने भी बालिकाओं को अपने संरक्षण में ही रखने की बात कहीं। हालांकि बच्चियों के भविष्य के लिए सरकारी सहायता दिलवाने का आग्रह किया।
पिता संरक्षक, कैसे मिले पालन हार का लाभफतेहपुर के एक परिवार की स्थिति बेहद गंभीर है। यहां छह बालिकाओं की मां की कोरोना से मौत हो गई। लेकिन पिता संरक्षक होने के कारण इन परिवारों को सरकार की पालन हार योजना का भी लाभ नहीं मिल पा रहा है। जबकि इस परिवार को सरकारी सहायता की आवश्यकता है।
जिले भर में चल रहा है सर्वे का काम
कोरोना के कारण माता या पिता को खोकर दंश झेल रहे बच्चों की जानकारी एकत्र कर उन्हें सरकारी सहायता से जोडऩे का कार्य जिले भर में चल रहा है। इसके लिए जिला परिषद, महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ शिक्षा विभाग की भी जानकारी एकत्र करा है।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

117 दिन बाद श्याम सरकार का दीदार हुआ तो छलक आए आंसू

खाटूश्यामजी. कोरोना की दूसरी लहर के चलते 117 दिनों बाद गुरुवार को जैसे ही लखदातार बाबा श्याम का दरबार खुला तो दर्शनों के...
- Advertisement -

मंदिर की भूमि से रास्ता निकालने का प्रयास

सीकर. शहर के राधाकिशनपुरा क्षेत्र में मंदिर माफी की जमीन पर कुछ लोगों ने जबरन रास्ता निकालने का प्रयास किया। जेसीबी से वहां...

एबीवीपी ने शिक्षा मंत्री आवास पर किया प्रदर्शन, पुलिस ने रोका तो रास्ते में दिया धरना

सीकर. आरएएस भर्ती परीक्षा में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को शिक्षा राज्य मंत्री व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह...

VIDEO: सीकर शहर में दिन दहाड़े 10 लाख रुपए की लूट, सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई घटना

सीकर. राजस्थान के सीकर शहर में शुक्रवार को दिनदहाड़े 10 लाख रुपए की लूट हो गई। बावड़ी गेट निवासी व्यापारी अमित पंसारी रुपयों...

Related News

117 दिन बाद श्याम सरकार का दीदार हुआ तो छलक आए आंसू

खाटूश्यामजी. कोरोना की दूसरी लहर के चलते 117 दिनों बाद गुरुवार को जैसे ही लखदातार बाबा श्याम का दरबार खुला तो दर्शनों के...

मंदिर की भूमि से रास्ता निकालने का प्रयास

सीकर. शहर के राधाकिशनपुरा क्षेत्र में मंदिर माफी की जमीन पर कुछ लोगों ने जबरन रास्ता निकालने का प्रयास किया। जेसीबी से वहां...

एबीवीपी ने शिक्षा मंत्री आवास पर किया प्रदर्शन, पुलिस ने रोका तो रास्ते में दिया धरना

सीकर. आरएएस भर्ती परीक्षा में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को शिक्षा राज्य मंत्री व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह...

VIDEO: सीकर शहर में दिन दहाड़े 10 लाख रुपए की लूट, सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई घटना

सीकर. राजस्थान के सीकर शहर में शुक्रवार को दिनदहाड़े 10 लाख रुपए की लूट हो गई। बावड़ी गेट निवासी व्यापारी अमित पंसारी रुपयों...

स्कूल के बच्चे ही अच्छे…कॉलेज विद्यार्थी ऑनलाइन पढ़ाई में भी मारते है बंक

सीकर. कॉलेज विद्यार्थियों के क्लास से बंक मारने की चर्चा खूब होती रही है। लेकिन कोरोनाकाल में भी यह बात सही साबित हुई...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here