- Advertisement -
Home Rajasthan News Sikar news आरटीआई से खुली बोर्ड के मार्किंग सिस्टम की पोल, छात्र को 46...

आरटीआई से खुली बोर्ड के मार्किंग सिस्टम की पोल, छात्र को 46 अंक कम देने पर अटका छात्र का प्रवेश

- Advertisement -

सीकर/फतेहपुर.माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (RBSE) के परीक्षा परिणाम में बड़ी लापरवाही सामने आई हैं। जिस तरह बोर्ड परिणाम में खामियां सामने आ रही है उससे बोर्ड की साख भी खराब हो रही है। एक ऐसा ही मामला फतेहपुर के ढांढण गांव में एक छात्र के परिणाम को लेकर सामने आया है। माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा घोषित 12 वी विज्ञान परीक्षा में छात्र हेमंत शर्मा के 82.17 प्रतिशत अंक आये, लेकिन हिंदी विषय मे 80 में से 19 नंबर दे रखे थे। इसका नतीजा यह हुआ कि छात्र के प्रतिशत कम होने के चलते पसंद की कॉलेज में उसका प्रवेश नहीं हो सका। छात्र को परिणाम पर शंका होने के चलते आरटीआई से कॉपी मंगवाई। कॉपी देखी तो पूरे सिस्टम की पोल खुल गई। छात्र के जिस विषय मे मार्कशीट में बोर्ड ने 80 में से 19 नंबर दे रखे थे, कॉपी देखी तो उसमें 80 में से 65 नंबर थे। लेकिन बोर्ड की गलती के कारण छात्र का रिकॉर्ड खराब कर दिया।
सरकारी स्कूल से दी परीक्षा, सबमें अच्छे अंकढांढण गांव के सांवरमल शर्मा के बेटे का 12 विज्ञान में गांव की ही सरकारी स्कूल में दाखिला था। 12 विज्ञान में छात्र हेमंत शर्मा के 82.40 फीसदी अंक आए। हिंदी में छात्र के 100 में से 39 नंबर दे रखे थे। छात्र को अन्य विषय में तीन विषय मे 90 प्रतिशत से अधिक व एक विषय मे 87 अंक आए थे। ऐसे में छात्र को 90 फीसदी से अधिक अंक आने की पूरी उम्मीद थी। होनहार जयपुर के महाराजा कॉलेज में प्रवेश लेना चाहता था। लेकिन बोर्ड की गलती के कारण छात्र का प्रवेश नहीं हो सका। मार्कशीट में सत्रांक के साथ पहले 100 में से 39 नंबर थे वहीं बाद में 100 में से 85 नंबर हो गए। इससे छात्र के कुल नंबर 82.40 प्रतिशत से बढ़कर 91.60 प्रतिशत हो गए। हेमन्त शर्मा पढ़ाई में हमेशा से ही मेधावी था। 12 वी विज्ञान वर्ग में छात्र को गणित में 100 में से 100 नंबर आए हैं। इसके अलावा अंग्रेजी में 96, केमेस्ट्री में 90 व फिजिक्स में 87 नंबर आये हैं। बाद में हिंदी में भी 85 नम्बर हो गए।
बोर्ड की गलती से नहीं हुआ प्रतिष्ठित कॉलेज में प्रवेश
बोर्ड की लापरवाही किसी छात्र का कैरियर कैसे प्रभावित कर देती हैं यह छात्र हेमंत शर्मा से ज्यादा कौन समझ सकता हैं। हेमंत शर्मा जयपुर में स्थित राजस्थान विश्वविद्यालय की महाराजा कॉलेज में प्रवेश लेना चाहता था। छात्र को उम्मीद थी कि उसके 90 प्रतिशत से अधिक अंक आएंगे तो प्रवेश भी हो जाएगा। जब परिणाम आया तो बोर्ड की लापरवाही छात्र पर भारी पड़ गई। छात्र के हिंदी में कम नंबर होने की वजह से छात्र के परिणाम के समय 82.40 फीसदी अंक ही आये। ऐसे में उसका महाराजा कॉलेज में प्रवेश का सपना अधूरा रह गया। जब तक बोर्ड ने संशोधित परिणाम जारी किया तब तक प्रवेश प्रकिया पूरी हो चुकी थी।
 
बोर्ड की छोटी सी गलती कितने बच्चों को करती होगी मायूस
राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षा परिणाम में इस तरह की गलतियां लगातार सामने आ रही हैं।लगातार गलफत सामने आने की वहज से हजारो विद्याथियों के अरमानों पर पानी फिर जाता हैं। लगातार लापरवाही के बाद भी बोर्ड इसमे सुधार नही कर रहा। नंबर कम आने के कारण विद्याथियों को प्रवेश नहीं मिलता व कइयों को दूसरे विषय लेने पड़ते हैं। इससे उन्हें मानसिक तनाव से भी गुजरना पड़ता हैं। पिछले वर्ष भी क्षेत्र की एक छात्रा के विज्ञान विषय मे कम नंबर आए तो उसे विज्ञान की जगह कला संकाय में प्रवेश लेना पड़ा।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

एक्ट्रेस हिमांशी खुराना भड़की कंगना रनौत पर

एक्ट्रेस कंगना रनौत का किसान आंदोलन का लेकर जो नजरिया रहा है, उस पर अलग ही बहस छिड़ गई है. उस सब के ऊपर...
- Advertisement -

आखिर क्यों बदनाम करना चाहते है किसान आंदोलन को भजपा के नेता

न जाने क्यों बीजेपी के नेता किसानों के आंदोलन के पीछे पड़ चुके हैं. अध्यादेश आने के बाद से ही किसान केंद्र सरकार तक...

राजस्थान में यहां एक दिन में 187 कोरोना मरीज हुए स्वस्थ, 30 नए पॉजिटिव

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में गुरुवार को 187 कोरोना मरीज स्वस्थ हुए। जबकि 30 नए कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए। जिसके बाद...

बैठक में किसानों ने ठुकराया सरकार का खाना, जानिए अब तक क्या हुआ

दिल्ली के विज्ञान भवन में सरकार और किसान नेताओं की बैठक जारी है. कृषि कानूनों पर सरकार और किसान नेताओं की चौथे दौर की...

Related News

एक्ट्रेस हिमांशी खुराना भड़की कंगना रनौत पर

एक्ट्रेस कंगना रनौत का किसान आंदोलन का लेकर जो नजरिया रहा है, उस पर अलग ही बहस छिड़ गई है. उस सब के ऊपर...

आखिर क्यों बदनाम करना चाहते है किसान आंदोलन को भजपा के नेता

न जाने क्यों बीजेपी के नेता किसानों के आंदोलन के पीछे पड़ चुके हैं. अध्यादेश आने के बाद से ही किसान केंद्र सरकार तक...

राजस्थान में यहां एक दिन में 187 कोरोना मरीज हुए स्वस्थ, 30 नए पॉजिटिव

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में गुरुवार को 187 कोरोना मरीज स्वस्थ हुए। जबकि 30 नए कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए। जिसके बाद...

बैठक में किसानों ने ठुकराया सरकार का खाना, जानिए अब तक क्या हुआ

दिल्ली के विज्ञान भवन में सरकार और किसान नेताओं की बैठक जारी है. कृषि कानूनों पर सरकार और किसान नेताओं की चौथे दौर की...

किसानों ने जिलेभर में किया प्रदर्शन, चुनाव बाद उग्र आंदोलन की तैयारी

सीकर. केन्द्र सरकार के कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली में जारी किसानों के प्रदर्शन के समर्थन में सीकर में अखिल भारतीय किसान...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here