- Advertisement -
Home Rajasthan News Sikar news चोरों से ज्यादा सांडों के आतंक से शहरवासी डरे हुए...पढ़़े पूरी खबर

चोरों से ज्यादा सांडों के आतंक से शहरवासी डरे हुए…पढ़़े पूरी खबर

- Advertisement -

सीकर. शहर में गंभीर होती सांडों की समस्या के समाधान के नाम पर जिम्मेदार तंत्र फैल हो गया है। इस समस्या के समाधान के लिए जिम्मेदार नगर परिषद के पास कोई कार्ययोजना नहीं है। जनता का दबाव बढऩे पर कुछ सांडों को घेर कर नंदीशाला भेज दिया जाता है। कुछ समय बाद उन्हे वापस छोड़ दिया जाता है। परिषद के कर्मचारी कुछ सांडों को शहर से बाहर छोडक़र भी आते हैं तो उससे अधिक संख्या में सांड गांवों से शहर में लाकर छोड़ दिए जाते हैं। वर्तमान हालात को देखते हुए परिषद समाधान के लिए राज्य सरकार के विशेष सहयोग की तरफ नजर लगाए हुए हैं। सिरे नहीं चढ़ पाए परिषद के प्रयास नंदियों के संरक्षण के लिए नगर परिषद की ओर से किए गए प्रयास सिरे नहीं चढ़ पाए। इसका सबसे बड़ा कारण नंदियों की बढ़ती संख्या के साथ संकल्पबद्धता की कमी भी है। नंदीशाला में चारे की व्यवस्था के लिए परिषद ने गत माह शहर में ई-रिक्शा शुरू किया था। इसे शहर के सुभाष चौक में खड़ा किया जाता है। लोग गायों के लिए चारा व रोटी इसमें डाल सकते हैं। लेकिन यह योजना भी आगे नहीं बढ़ पाई है। वजह है कि इसे कुछ क्षेत्र में सिमित कर दिया गया है। जबकि इसे शहर में पांच स्थानों पर शुरू किया जाना था। जन सहयोग से बनाई गई नंदीशाला भी कोई राहत नहीं दे पाई है। कागजों में अटके योजना और दावे शहर को आवारा सांडों से मुक्ति दिलवाने की योजनाएं तो कई बार बनी। लेकिन वे धरातल पर नहीं उतर पाई। पिछले दिनों विधायक राजेन्द्र पारीक ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर योजन का खुलासा किया तो लोगों को लगा कि सरकार अब इस तरफ ध्यान देकर समाधान की दिशा में कदम बढ़ाएगी, लेकिन जनता के सामने अभी तक कोई जवाब नहीं आया है। पत्र में वन भूमियों के तारबंदी करवाकर उनमें आवारा पशुओं को रखने और नरेगा श्रमिकों को उनकी देखभाल करने का जिम्मा देने की बात लिखी गई थी। इसके अलावा टोल नाको के पास की पंचायतों में गौशाला स्थापित करने का सुझाव था। इन गौशालाओं के संचालन के लिए उस मार्ग पर निकलने वाले वाहनों से टोल के साथ कुछ पैसा लिया जा सकता है। यह सुझाव दुर्घटनाओं में कमी भी लाने वाला था। इसके अलावा किसानों को बछड़ी पैदा करने वाला सीमन रियायती दरों पर उपलब्ध करवाने की बात भी कहीं गई थी, लेकिन अभी तक इस पर कोई निर्णय नहीं हो पाया है।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

UP के CM योगी आदित्यनाथ ने बीजेपी और सपा की सरकार में बताया अंतर, हो गए ट्रोल

योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) अक्सर ऐसे दावे करते हैं जिसके साक्ष्य ढूंढने पर भी मिलते नहीं है. विपक्षी पार्टियों पर तथ्यहीन आरोप लगाना उत्तर...
- Advertisement -

महिमा चौधरी ने खोला बॉलीवुड का राज़

हिंदी सिनेमा की सुपरहिट फिल्म ‘परदेस’ में गंगा के किरदार में नजर आई महिमा चौधरी (Mahima Chaudhary) को भला कौन नहीं जानता. महिमा चौधरी...

एनएसयूआई ने भाजपा कार्यालय के सामने किया प्रदर्शन, जिलाध्यक्ष ने बताया ओछी राजनीति

सीकर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर अशोभनीय टिप्पणी करने पर एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को भाजपा कार्यालय के सामने केंद्रीय राज्यमंत्री एसपी सिंह बघेल...

प्रियंका गांधी के कारण बीजेपी परेशान है

प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) से इंदिरा गांधी जैसी अपेक्षा रखने वाले कांग्रेसी अगर अब भी निराश हैं, तो एक बार राहुल गांधी (Rahul Gandhi)...

Related News

UP के CM योगी आदित्यनाथ ने बीजेपी और सपा की सरकार में बताया अंतर, हो गए ट्रोल

योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) अक्सर ऐसे दावे करते हैं जिसके साक्ष्य ढूंढने पर भी मिलते नहीं है. विपक्षी पार्टियों पर तथ्यहीन आरोप लगाना उत्तर...

महिमा चौधरी ने खोला बॉलीवुड का राज़

हिंदी सिनेमा की सुपरहिट फिल्म ‘परदेस’ में गंगा के किरदार में नजर आई महिमा चौधरी (Mahima Chaudhary) को भला कौन नहीं जानता. महिमा चौधरी...

एनएसयूआई ने भाजपा कार्यालय के सामने किया प्रदर्शन, जिलाध्यक्ष ने बताया ओछी राजनीति

सीकर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर अशोभनीय टिप्पणी करने पर एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को भाजपा कार्यालय के सामने केंद्रीय राज्यमंत्री एसपी सिंह बघेल...

प्रियंका गांधी के कारण बीजेपी परेशान है

प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) से इंदिरा गांधी जैसी अपेक्षा रखने वाले कांग्रेसी अगर अब भी निराश हैं, तो एक बार राहुल गांधी (Rahul Gandhi)...

इंस्टाग्राम पर सबसे हॉट बॉलीवुड एक्ट्रेस

एक समय था जब हमें अपने पसंदीदा बॉलीवुड सितारों के बारे में जानने के लिए टीवी न्यूज़ और न्यूज़पेपर का सहारा लेना पड़ता था....
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here