- Advertisement -
Home News राजस्थान पंचायत चुनाव: 15 अगस्त से गांवों में उत्थान शिविर लगाएगी सरकार,अब...

राजस्थान पंचायत चुनाव: 15 अगस्त से गांवों में उत्थान शिविर लगाएगी सरकार,अब हर पंचायत में ये 5 काम जरूरी

- Advertisement -

आजकलराजस्थान / जयपुर

प्रदेश में अगले साल जनवरी-फरवरी में पंचायत राज चुनाव के मद्देनजर सरकारी मशीनरी का जोर अब गांवों के विकास पर रहेगा। सरकार 15 अगस्त से 2 अक्टूबर यानी लगभग डेढ़ महीने तक गांवों में राजीव गांधी ग्रामोत्थान शिविर लगाएगी। इनमें मूलभूत सुविधाओं और आधारभूत ढांचे के विकास संबंधी कार्य किए जाएंगे।

माना जा रहा है कि 2015 के चुनाव में जिला परिषदों में कांग्रेस को मिली हार के बाद सरकार अभी से गांवों में पार्टी की पकड़ मजबूत करने के लिए प्रयासरत है। शिविरों के लिए पंचायत राज विभाग ने सभी जिला कलक्टरों और जिला परिषदों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों को निर्देश जारी कर दिए हैं।

जिलों में जिला परिषद के सीईओ इन शिविरों के नोडल अधिकारी होंगे। शिविरों में पट्टा वितरण, भूखंड आवंटन, केन्द्र की मानधन योजना में पंजीकरण, सामाजिक सुरक्षा पेंशन पंजीकरण, महिला शक्ति समूहों का गठन आदि काम किए जाएंगे। उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने इन शिविरों की विधानसभा में घोषणा की थी।

5 कार्य अनिवार्य तौर पर कराने को कहाशिविर राज्य की सभी 9893 ग्राम पंचायतों में सुबह 10 से शाम 5 बजे तक लगेंगे। हर राजस्व गांव में सरकार ने 5 कार्य अनिवार्य तौर पर कराने को कहा है। इनमें चरागाह विकास, सामुदायिक जलाशयों का निर्माण, श्मशान व कब्रिस्तान का विकास, खेल मैदान का विकास, सड़क मरम्मत या नई सड़क निर्माण के कार्य शामिल हैं।

शैक्षणिक योग्यता संबंधी बाध्यता समाप्तराज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद उसके शुरुआती निर्णयों में भी पंचायत चुनाव का मसला प्रमुख रहा था। भाजपा सरकार में पंचायत प्रतिनिधियों के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता अनिवार्य की गई थी। कांग्रेस ने इसका विरोध करते हुए घोषणा की थी कि सत्ता में आने पर यह बाध्यता हटाई जाएगी। यह बाध्यता सरकार बनने के बाद समाप्त कर भी दी गई।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

सहयोगी दल एनडीए छोड़ रहे हैं लेकिन बीजेपी चिंतित नहीं है, जानिए इसके पीछे की वजह

बीजेपी और उनके सहयोगियों के बीच कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है. अधिकतर क्षेत्रीय दल साधारण कारणों से नाराज हैं कि बीजेपी किसी...
- Advertisement -

कृषि नीति में हो बदलाव

स्वतंत्रता के पश्चात भारत की कृषि नीति लाभ व लोभ आधारित रही। जिसके चलते भारत की परंपरागत व जैविक खेती को अत्यधिक नुकसान...

बीजेपी सांसद सुब्रमण्यन स्वामी ने फिर किया अपनी ही पार्टी से सवाल

सीमा पर चीन के साथ जारी गतिरोध के मुद्दे पर श्वेत पत्र लाने की मांग उठने लगी है. गौरतलब है कि भाजपा सांसद सुब्रमण्यन...

सरकार के ‘सच’ से बढ़ी बीजेपी की टेंशन

किसान कर्जमाफी को लेकर बीजेपी अभी फ्रंट-फुट पर बैटिंग कर रही थी. सीएम से लेकर मंत्री तक अपनी चुनावी सभाओं में यह जिक्र करते...

Related News

सहयोगी दल एनडीए छोड़ रहे हैं लेकिन बीजेपी चिंतित नहीं है, जानिए इसके पीछे की वजह

बीजेपी और उनके सहयोगियों के बीच कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है. अधिकतर क्षेत्रीय दल साधारण कारणों से नाराज हैं कि बीजेपी किसी...

कृषि नीति में हो बदलाव

स्वतंत्रता के पश्चात भारत की कृषि नीति लाभ व लोभ आधारित रही। जिसके चलते भारत की परंपरागत व जैविक खेती को अत्यधिक नुकसान...

बीजेपी सांसद सुब्रमण्यन स्वामी ने फिर किया अपनी ही पार्टी से सवाल

सीमा पर चीन के साथ जारी गतिरोध के मुद्दे पर श्वेत पत्र लाने की मांग उठने लगी है. गौरतलब है कि भाजपा सांसद सुब्रमण्यन...

सरकार के ‘सच’ से बढ़ी बीजेपी की टेंशन

किसान कर्जमाफी को लेकर बीजेपी अभी फ्रंट-फुट पर बैटिंग कर रही थी. सीएम से लेकर मंत्री तक अपनी चुनावी सभाओं में यह जिक्र करते...

जंगल में रहस्यमयी ढंग से हुई मजदूर की मौत, शरीर पर मिले अजीबो-गरीब निशान

सीकर/खाचरियावास. राजस्थान के सीकर जिले के दांतारामगढ़ ब्लॉक के चक गांव में गुरुवार को एक मजदूर की रहस्यमयी मौत हड़कंप का सबब बन...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here