- Advertisement -
Home News कॉलेज में कई समस्याएं अनसुलझी, जिनका समाधान जरूरी

कॉलेज में कई समस्याएं अनसुलझी, जिनका समाधान जरूरी

- Advertisement -

प्रतापगढ़. छात्रसंघ चुनाव की तिथियों की घोषणा के बाद से कॉलेजों में चुनावी सरगर्मी बढऩे लगी है। सभी छात्र संगठन अपने-अपने पक्ष में वोट करने को लेकर छात्र हितों के विभिन्न मुद्दों के साथ विद्याथिर्यों के पास पहुंच रहे हंै। लेकिन इन सब के अलावा भी महाविद्यालय में ऐसे कई मुद्दें हंै जिन पर छात्र नेताओं के साथ-साथ प्रशासन व सरकार को भी ध्यान देना चाहिए। हालांकि सरकार और प्रशासन की ओर से कॉलेज के मुद्दों पर ध्यान नहीं देने पर छात्र संगठनों की ओर से विरोध-प्रदर्शन कर भी अपने मुद्दों व समस्याओं को पुरा करवाया जाता है।महाविद्यालय में यह है प्रमुख मुद्दे व समस्याएंभवन की मरम्मत महाविद्यालय में कई अव्यवस्थाओं के कारण छात्र-छात्राओं को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। कॉलेज में कई कक्षा कक्षों में कहीं प्लास्टर टूटा हुआ तो कहीं छत से पानी टपकता है। हालांकि कई बार मरम्मत का कार्य करवाया गया है लेकिन फिर से वहीं हालात हो जाते है। खेल मैदान मेें उगी घास, विचरण करते पशुमहाविद्यालय का हाल यह है कि पुरे परिसर में चारों तरफ जंगली घास उग गई है। इससें यहां पर विषैले जीवों का खतरा भी बना रहता है। वहीं परिसर के अंदर ही पशु विचरण करते हुए दिखाई देते है। विद्यालय परिसर में काऊ कैचर नहीं लगे होने से परिसर में पशु और मवेशी घुस जाते है।स्टाफ की कमीकॉलेज में व्याख्याताओं सहित अन्य स्टाफ की काफी कमी है। जिसके चलते जहां शिक्षण कार्य प्रभावित होता है वहीं महाविद्यालय के अन्य कार्य भी बाधित होते हैं। जिनका समाधान जरुरी है।यह रह सकते हैं संभावित मुद्दे-इस वर्ष कॉलेज में छात्रवृत्ति, महाविद्यालय में स्टॉफ की कमी सहित एमएससी एम कॉम जो अभी एसएफएस के तहत चल रही है उसे नियमित करवाना।-महाविद्यालय में स्टॉफ की कमी को पूरा करना, ज्योग्राफी व बायोलॉजी की लैब खुलवाना। एमए में इकोनॅमिक्स व इंग्लिश के विषयों में शुरू करवाना।-महाविद्यालय मेें हर वर्ष बच्चों को समय पर छात्रवृति नहीं मिलती है। इस वर्ष भी कई छात्र-छात्राओं की छात्रवृत्ति रूकी हुई है साथ ही कॉलेज में स्टॉफ की कमी वहीं खेल मैदान को सही करवाना, यूनिवर्सिटी में आयोजित कबड्डी व फुटबॉल के टूर्नामेंट प्रतापगढ़ में आयोजित करवाना।
एबीवीपी की बैठक आजप्रतापगढ़. महाविद्यालय में छात्र संघ चुनाव को लेकर रविवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की बैठक राज राजेश्वरी मन्दिर के सामने नीलकंठ महादेव मंदिर परिसर में दोहपर 12 बजे आयोजित की जाएगी। जिला संयोजक अंकुश लबाना ने बताया कि बैठक में चारों पदों के लिए उमीदवारों के आवेदन लिए जाएंगे। जो भी कार्यकर्ता अपनी दावेदारी रखना चाहता है, वह अपने मूल दस्तावेज अंतिम वर्ष की मार्कशीट, महाविद्यालय का परिचय पत्र या चालान की कॉपी और दसवीं की मार्कशीट लेकर समय से पूर्व उपस्थित हो।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

राजस्थान के किसानों ने केंद्र को सुनाई खरी-खरी

केंद्र सरकार ने 6 रबी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में बढ़ोतरी की है, लेकिन कई किसान संगठन इससे ज्यादा खुश नहीं हैं. किसान महापंचायत...
- Advertisement -

स्वास्थ्य विभाग ने छुपाई कोरोना से मौतें!, 65 पॉजिटिव मिले

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में कोरोना पॉजिटिव केस के साथ मौत का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। जिले में बुधवार को भी...

स्वास्थ्य विभाग ने छुपाई कोरोना से मौतें!, 65 पॉजिटिव मिले

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में कोरोना पॉजिटिव केस के साथ मौत का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। जिले में बुधवार को भी...

वह बाहुबली जिसके पीछे हाथ धोकर पड़ी रही यूपी-बिहार की पुलिस, BJP के टिकट से होना चाहते हैं ‘पवित्र’

बाहुबलियों की राजनीति, गुनाहों की गलियों से निकले उन सियासतदानों का सच है जिनके दामन पर यूं तो गुनाहों के दाग हैं, लेकिन सियासत...

Related News

राजस्थान के किसानों ने केंद्र को सुनाई खरी-खरी

केंद्र सरकार ने 6 रबी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में बढ़ोतरी की है, लेकिन कई किसान संगठन इससे ज्यादा खुश नहीं हैं. किसान महापंचायत...

स्वास्थ्य विभाग ने छुपाई कोरोना से मौतें!, 65 पॉजिटिव मिले

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में कोरोना पॉजिटिव केस के साथ मौत का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। जिले में बुधवार को भी...

स्वास्थ्य विभाग ने छुपाई कोरोना से मौतें!, 65 पॉजिटिव मिले

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में कोरोना पॉजिटिव केस के साथ मौत का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। जिले में बुधवार को भी...

वह बाहुबली जिसके पीछे हाथ धोकर पड़ी रही यूपी-बिहार की पुलिस, BJP के टिकट से होना चाहते हैं ‘पवित्र’

बाहुबलियों की राजनीति, गुनाहों की गलियों से निकले उन सियासतदानों का सच है जिनके दामन पर यूं तो गुनाहों के दाग हैं, लेकिन सियासत...

राजस्थान में यहां मनरेगा की खुदाई में मिले हड़प्पाकालीन संस्कृति के अवशेष

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के बिंज्यासी गांव में मनरेगा की खुदाई में मिले आभूषण हडप्पाकालीन संस्कृति के है। पुरातत्व विभाग की जांच...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here