- Advertisement -
Home News Jaipur Clash: पथराव में फंस गईं थीं वनस्थली विद्यापीठ की 20-25 लड़कियां,...

Jaipur Clash: पथराव में फंस गईं थीं वनस्थली विद्यापीठ की 20-25 लड़कियां, भीड़ को बस की ओर बढ़ते देख चालक ने ऐसे बचाई जान

- Advertisement -

जयपुर। सोमवार को जयपुर की दिल्ली रोड पर दो पक्षों ( Communal Violence in Jaipur ) में हुए जमकर पथराव और तनाव के दौरान कई लोग घायल हो गए। कई लोगों को गंभीर चोटें आईं और कई वाहनों को आग के हलावे कर दिया साथ ही कई वाहनों पर हमला ( Communal Clash ) कर उन्हें क्षतिग्रस्त कर दिया। उग्र भीड़ हाथों में सरिए, डंडें लेकर दिल्ली रोड से गुजरने वाले वाहनों पर पत्थरबाजी ( Stone Pelting ) कर रही थी और लोगों के साथ मारपीट ( Jaipur Communal Tension ) कर रही थी। उग्र भीड़ को रोकने के लिए पुलिस ने लाठी चार्ज किया लेकिन जब स्थिति काबू में नहीं आई तो आंसू गैस के लगभग सौ गोले दागने पड़े। ऐसे दहाशतभरे माहौल में वनस्थली विद्यापीठ की कई लड़कियां वहां फंस गई और उनकी जान सांसत में आ गई।
 
भीड़ बस की ओर बढऩे लगी, चालक ने दौड़ा दी बसपथराव में फंसी बस के परिचालक जितेन्द्र सिंह ने पत्रिका को बताया कि नौ बजे बस लेकर रामपुरा यूपी के लिए रवाना हुए। करीब 9.40 बजे ईदगाह के पास भारी भीड़ थी। लोग बस को आगे नहीं जाने दे रहे थे। सडक़ के साइड में बस को रोक लिया। बस में वनस्थली विद्यापीठ की 20-25 लड़कियां थी। इसलिए बस में ही बैठे रहना उचित समझा। पथराव शुरू हुआ, भीड़ बस की ओर बढऩे लगी। ऐसे में चालक को इशारा दे बस को दौड़ाया। करीब डेढ़ किमी आगे जाकर बस रोकी और यात्रियों की कुशलक्षेप पूछी।
 सुलगते जयपुर में धारा-144! पुलिस ने फिर छोड़े आंसू गैस के सौ से अधिक गोले, कई घायल और कई वाहन क्षतिग्रस्त
 
देर रात तक कर्फ्यू लगने की फैलती रही अफवाहगंागापोल और दशहराकोठी इलाके में पत्थरबाजी की घटना के बाद पूरे शहर में एक बार कर्फ्यू लगने की अफवाह फैल गई। कई लोगों ने के ‘पत्रिका ’ के दफ्तार में भी फोन कर सही स्थिति की जानकारी ली। हालांकि पुलिस ने रात 12 बजे तक हालात पर पूरी तरह से काबू कर लेने का दावा किया। इसबीच कफ्र्यू नहीं लगने की जानकारी मिलने पर लोगों ने भी राहत की सांस ली। एडिशनल कमिश्नर द्वितीय अजय पाल लांबा पुलिस दल-बल के साथ रावलजी का बाजर में देर रात तक डटे रहे। देर रात पुलिस की साइबर सेल अफवाह फैलाने वालों की धर पकड़ मे जुटी हुई है।
 
राजस्थान में 3 दिन तक भारी बारिश की चेतावनी, 40 से 45 किलोमीटर की रफ्तार से चल सकती है हवाएं, लोगों को किया अलर्टदशहरा कोठी में भी पथराव, पुलिस ने बल प्रयोग कर खदेड़ा रावलजी का बाजार में पथराव कम होता इससे पहले दशहरा कोठी की ओर से पथराव की सूचना आ गई। पुलिस ने घरों के बाहर खड़े लोगों को घर में जाने की अपील की। कई जगह हल्का बल प्रयोग कर भीड़ को हटाया। पथराव में घायल हुए राज वीरेंद्र ने बताया कि युवकों के विवाद में किसी ने पथराव शुरू कर दिया। दशहरा कोठी की ओर स्थिति बिगडऩे से पहले ही पुलिस ने सम्भाल लिया।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

जैण्डर संवेदनशीलता: वर्तमान परिपे्रक्ष्य: मुकेश निठारवाल

देश का गौरव बढ़ाने वाली हिन्दुस्तान की बेटियों पर हर भारतीयों को गर्व होना चाहिए, जैसे खेल, राजनीति,सामाजिक जागरूकता, प्रशासनिक आदि क्षेत्रों में...
- Advertisement -

बाइक से पेट्रोल निकालकर युवक को स्कूटी सहित जलाया, सीसीटीवी फुटेज में दिखे तीन युवक

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के पिपराली ब्लॉक के पलासिया गांव में शुभकरण हत्याकांड में पुलिस को कई अहम सुराग मिले है। पुलिस...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

किसान बिल को लेकर फूटा सपना चौधरी का गुस्सा

संसद में पास हो चुके दो किसान बिलों के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन की हलचल पूरे देश में फैल रही है. कांग्रेस सहित कई विपक्षी पार्टियां...

Related News

जैण्डर संवेदनशीलता: वर्तमान परिपे्रक्ष्य: मुकेश निठारवाल

देश का गौरव बढ़ाने वाली हिन्दुस्तान की बेटियों पर हर भारतीयों को गर्व होना चाहिए, जैसे खेल, राजनीति,सामाजिक जागरूकता, प्रशासनिक आदि क्षेत्रों में...

बाइक से पेट्रोल निकालकर युवक को स्कूटी सहित जलाया, सीसीटीवी फुटेज में दिखे तीन युवक

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के पिपराली ब्लॉक के पलासिया गांव में शुभकरण हत्याकांड में पुलिस को कई अहम सुराग मिले है। पुलिस...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

किसान बिल को लेकर फूटा सपना चौधरी का गुस्सा

संसद में पास हो चुके दो किसान बिलों के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन की हलचल पूरे देश में फैल रही है. कांग्रेस सहित कई विपक्षी पार्टियां...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here