- Advertisement -
Home Rajasthan News Sikar news खौफनाक...यह खबर सुनकर आप रोडवेज बसों में बैठने से पहले लाख बार...

खौफनाक…यह खबर सुनकर आप रोडवेज बसों में बैठने से पहले लाख बार सोचेंगे

- Advertisement -

सीकर. यात्रियों की सुरक्षा को सर्वोपरी मानने वाले राजस्थान रोडवेज की अधिकांश बसें कंडम हो चुकी है। इसकी बानगी है कि प्रदेश में 981 बस कंडम अवधि निकलने के बाद भी सडक़ों पर फर्राटे भर रही है। नई बसों को छोड़ दें तो रोडवेज की ज्यादातर बस भगवान भरोसे दौड़ रही हैं। किसी में कंडम वाहन का इंजन लगा है तो किसी में पहिये। कब धोखा दे जाए, किसी को पता नहीं है। इससे जहां एक ओर रोडवेज का घाटा सुरसा के मुंह की तरह बढ़ रहा है वहीं दूसरी ओर यात्रियों के साथ-साथ चालक व परिचालक की जान भी खतरे में रहती है। निगम प्रबंधन इन कंडम बसों को बदलने की बजाए पुरानी बसों को ही ठोक पीटकर जर्जर हालत में सडक़ों पर दौड़ा रहा है। इसका ही नतीजा है कि रोडवेज की मियाद पूरी कर चुकी ये बसें सडक़ों पर काल बनकर दौड़ रही हैं। हालांकि रोडवेज के मानकों के अनुसार आठ साल या आठ लाख किलोमीटर चलने वाली बस कंडम घोषित करने योग्य है। यह है हकीकत वर्तमान में प्रदेश के 52 आगारों में करीब 3 हजार 100 बसें संचालित हैं। जिनमें करीब 981 बसें कंडम हैं। पर्याप्त बसों की पूर्ति के लिए करीब 5 हजार बसों की आवश्यकता है, लेकिन संचालन 3 हजार 459 बसों का है। स्वयं की इतनी बसें नहीं होने से अनुबंधित 960 बसों का सहारा लिया जा रहा है, जो निगम के राजस्व को क्षति पहुंचा रहा है। सूत्र बताते हैं कि हालात ऐसे ही रहे तो दिसंबर 2019 तक रोडवेज के पास करीब 1950 बसें रह जाएगी। बसों में ब्रेकडाउन, बैट्री डाउन, कबानी के पट्टे टूटने, स्टेपनी फैल जैसी समस्या आम है।निजी को बढ़ावा, खुद भुगत रहे खमियाजाप्रबंधन की इस कमी का खमियाजा खुद रोडवेज को ही भुगतना पड़ रहा है। निजी वाहन संचालक इसका जमकर फायदा उठा रहे हैं। उनकी मोटी चांदी हो रही है, वहीं कई यात्रियों को नहीं चाहकर भी यात्रा के लिए निजी बसों का सहारा लेना पड़ रहा है। राजस्व प्रतिदिन इन बूढ़ी बसों से मिल रहा है। कर्मचारियों के मुताबिक रोडवेज पर लोगों का विश्वास है, इसके बावजूद बसों की कमी लोगों को खलती है। मजबूरीवश उन्हें अन्य साधनों का उपयोग करना पड़ा है। नीलामी के लिए होगी परेशानी राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम की भांति उसकी बसों की भी हालत हो गई है। उधर, बसों से पाट्र्स निकालने से कंडम बसें और भी कंडम हो गई हैं। ऐसे में इन बसों को नीलामी के लिए जयपुर या अजमेर तक पहुंचना भी मुश्किल हो गया है। पहले इन बसों को रोडवेज ने अजमेर स्थित वर्कशॉप भेजना चाहा, लेकिन वहां जगह के अभाव में इन्हें स्थानीय डिपो में ही खड़ा कर दिया गया। मुख्यालय से पाट्र्सों की आपूर्ति नहीं होने पर स्थानीय अधिकारियों को जब बसें चलाना मुश्किल हुआ तो उन्होंने इन बसों के पाट्र्सों को खोलना कसवाना शुरू करा दिया। किसी का इंजन, किसी के पहिये लगा कर रोडवेज ने अपनी गाड़ी तो चला ली, लेकिन यात्रियों की मंगलमय यात्रा को अमंगलमय कर दिया।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

क्या मोदी सरकार किसानों को एमएसपी की गारंटी दे सकती है? जानिए इस सरकार की हक़ीक़त

बीजेपी को इसके जन्म बल्कि इसके पूर्ववर्ती अवतार जनसंघ के समय से ही व्यापारी समर्थक पार्टी माना जाता है. आज की किसान समस्या के...
- Advertisement -

सरकार और किसानों के बीच आज बातचीत, ठोस नतीजा नहीं निकलने पर किसानो ने दी बड़ी चेतावनी

केंद्र के कृषि कानून के खिलाफ किसान दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. देशभर में जारी किसानों के विरोध प्रदर्शन के बीच किसान संगठनों...

राहुल गांधी ने बिहार का उदाहरण देकर मोदी सरकार को घेरा

कांग्रेस सांसद ने कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में फिर से ट्वीट किया है. राहुल गांधी ने कहा है...

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने शुक्रवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित किया

प्रियंका गांधी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि यूपी में जहां भी दलितों के साथ अत्याचार हो वहां आप खड़े रहें, उनकी...

Related News

क्या मोदी सरकार किसानों को एमएसपी की गारंटी दे सकती है? जानिए इस सरकार की हक़ीक़त

बीजेपी को इसके जन्म बल्कि इसके पूर्ववर्ती अवतार जनसंघ के समय से ही व्यापारी समर्थक पार्टी माना जाता है. आज की किसान समस्या के...

सरकार और किसानों के बीच आज बातचीत, ठोस नतीजा नहीं निकलने पर किसानो ने दी बड़ी चेतावनी

केंद्र के कृषि कानून के खिलाफ किसान दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. देशभर में जारी किसानों के विरोध प्रदर्शन के बीच किसान संगठनों...

राहुल गांधी ने बिहार का उदाहरण देकर मोदी सरकार को घेरा

कांग्रेस सांसद ने कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में फिर से ट्वीट किया है. राहुल गांधी ने कहा है...

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने शुक्रवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित किया

प्रियंका गांधी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि यूपी में जहां भी दलितों के साथ अत्याचार हो वहां आप खड़े रहें, उनकी...

सीकर- जयपुर की पुलिस सबसे स्मार्ट, सवाईमाधोपुर की सबसे फिसड्डी

सीकर. एक दौर था जब केवल डंडे के आधार पर पुलिस का चेहरा तय किया जाता था। समय के बदलते दौर के साथ...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here