- Advertisement -
Home News देश के किसानों की बेहतरी के लिए विदेशी तेलों के आयात पर...

देश के किसानों की बेहतरी के लिए विदेशी तेलों के आयात पर तुरंत रोक लगाए सरकार

- Advertisement -

जगमोहन शर्मा / जयपुर. केन्द्र सरकार को वास्तव में घरेलू स्तर पर तिलहन उत्पादन को बढ़ावा देना है और किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य दिलाना है तो सबसे पहले खाद्य तेलों के आयात ( Foreign Oils Import ) पर अंकुश लगाना जरूरी है।
 
 
मस्टर्ड ऑयल प्रॉड्यूशर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (मोपा) के अध्यक्ष बाबूलाल डाटा ने बताया कि देश में खाद्य तेलों ( Edible Oils ) का आयात निरंतर बढ़ता जा रहा है। वर्ष 2017-18 में जहां 155 लाख टन विदेशी तेलों का आयात हुआ, वहीं वर्ष 2018-19 में यह बढ़कर 162 लाख टन तक पहुंच गया।
 
उत्पादन ठप
डाटा ने कहा कि यह हर साल बढ़ रहा है। और यही कारण है कि राजस्थान की 50फीसदी से अधिक सरसों तेल इकाईयों में उत्पादन ठप पड़ा हुआ है। क्योंकिआयातित तेल घरेलू तेलों के मुकाबले काफी सस्ता पड़ रहा है। गौरतलब है किखाद्य तेल आयात बिल 70 हजार करोड़ रुपए तक पहुंच चुका है। और जिस गति से यह बढ़ रहा है उसे देखते हुए इसके 1 लाख करोड़ रुपए तक पहुंचने का अनुमानहै।
 
Read More : खाने के तेलों का आयत रुकना चाहिए, तिलहन पैदावार पर सरकार का फोकस : PM मोदी
 
रह जाएगा स्टॉक
किसानों के पास सरसों और सोयाबीन का स्टॉक अभी तक पड़ा हुआ है। जबकि करीब तीन माह बाद नई सोयाबीन मंडियों में आ जाएगी। डाटा ने सुझाव दिया है कि सरसों एवं सोयाबीन पर आयात शुल्क को 35 प्रतिशत से बढ़ाकर 45 फीसदी कर देना चाहिए। इसी प्रकार उद्योग को बचाने के लिए कच्चे पाम तेल पर ड्यूटी40 से बढ़ाकर 45 प्रतिशत करना जरूरी है। इसके साथ ही कच्चे तेल के आयातपर 18 फीसदी और आयातित रिफाइंड तेल पर 28 प्रतिशत जीएसटी ( GST On import Oils ) भी लगाया जाना चाहिए।
 
 
शुन्य हो आयात घाटा
उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ( PM Narendra Modi ) ने पिछले दिनों संसद ( Parliament ) में खाद्य तेलों का आयात घटाकर शून्य करने की बात कही थी। मोदी ने कहा कि जिस प्रकार दलहन का आयात कम करने तथा पैदावार बढ़ाने के लिए किसानों को प्रेरित किया गया, उसी प्रकार खाने के तेलों के आयात को भी कम किया जा सकता है और इसके लिए किसानों को प्रेरित किया जा सकता है।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

किसान बिलों के खिलाफ किसान सभा ने हर ब्लॉक में जताया आक्रोश

सीकर. केन्द्र सरकार द्वारा किसानों को लेकर पास किए गए तीन बिलों के विरोध में शुक्रवार को अखिल भारतीय किसान सभा की ओर...
- Advertisement -

कविता: रिश्ते

रिश्ते बनाये नहीं जातेबस सिर्फ और सिर्फ निभाये जाते हैंहर रिश्ते की एक अलग इम्तिहानहोती हैजिन्दा रखने के लिए उसकी एकपहचान होती हैइन्सान...

मौजूदा समय के सबसे बड़े चुनाव का ऐलान

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा है कि कोरोना के दौर में ये पहला चुनाव होगा. हमारे लिए लोगों...

सावधान! एयरपोर्ट व शिक्षक से लेकर वर्क फ्रॉम होम तक के नाम से हो रही है ठगी

सीकर. कोरोनाकाल में बेरोजगार हुए युवाओं के नौकरी के अरमानों से अब प्रदेशभर में ठगी का बड़ा खेल शुरू हो गया है। एयरपोर्ट...

Related News

किसान बिलों के खिलाफ किसान सभा ने हर ब्लॉक में जताया आक्रोश

सीकर. केन्द्र सरकार द्वारा किसानों को लेकर पास किए गए तीन बिलों के विरोध में शुक्रवार को अखिल भारतीय किसान सभा की ओर...

कविता: रिश्ते

रिश्ते बनाये नहीं जातेबस सिर्फ और सिर्फ निभाये जाते हैंहर रिश्ते की एक अलग इम्तिहानहोती हैजिन्दा रखने के लिए उसकी एकपहचान होती हैइन्सान...

मौजूदा समय के सबसे बड़े चुनाव का ऐलान

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा है कि कोरोना के दौर में ये पहला चुनाव होगा. हमारे लिए लोगों...

सावधान! एयरपोर्ट व शिक्षक से लेकर वर्क फ्रॉम होम तक के नाम से हो रही है ठगी

सीकर. कोरोनाकाल में बेरोजगार हुए युवाओं के नौकरी के अरमानों से अब प्रदेशभर में ठगी का बड़ा खेल शुरू हो गया है। एयरपोर्ट...

डैमेज कंट्रोल के लिए कमलनाथ का प्लान रेडी

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने चुनाव प्रचार और प्रबंधन के बाद समन्वय की कमान भी अपने हाथों में ले ली है. उम्मीदवारों की पहली सूची...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here