- Advertisement -
Home News सरकार पेंशनर्स को कटवा रही चक्कर, घुमा रही फाइलें

सरकार पेंशनर्स को कटवा रही चक्कर, घुमा रही फाइलें

- Advertisement -

प्रतापगढ़.सरकार पेंशनर्स को पेंशन और अन्य सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का लाभ लेने के लिए चक्कर दर चक्कर कटवा रही है। संबंधित विभाग के अधिकारी और कर्मचारी पेंशनर्स की समस्याओं को संवेदनशीलता से नहीं ले रहे। यह पीड़ा है अरनोद पेंशनर्स समाज की। समाज के अध्यक्ष गोरीशंकर मेहता ने बताया कि सरकारी सेवा के अन्तिम पड़ाव पर पहुंचते ही सेवानिवृति से पहले पेंशन को लेकर तनाव शुरू हो जाता है। विभाग से सेवानिवृति की पत्रावली बनाने में क्लर्क एक दो माह लगा देते हैं, फिर पेंशन विभाग व मूल विभाग के बीच आक्षेय पूर्ति का दौर चलता है। इस खतरे से निकलने के बाद कोष कर्यालय फाईल पहुचती है। इस कार्यालय में भी एक दो माह कोष कार्यालय व उपकोष कार्यालय के बीच चकर काटती रहती है तब जाकर जीपीएफ कम्युटेड की राशि मिलती हैं। दूसरे दौर से निकलने के बाद बैंक व सी पी पी सी जयपुर के बीच फाइल हिचकोले खाती खाती घूमती रहती हैं । यह सिल सिला पिछले पांच वर्षों से चला रहा हैं ,पेंशनरो की पेंशन 8 से 10 माह बाद की देरी बाद ही प्रारम्भ होती है। कोई भी विभाग 8 से 10 माह की देरी का जिम्मा अपने उपर नही लेता है । अधिकांश विभागों में यही हाल है। पेंशनर्स को चक्कर कटवा रहे हैं।अरनोद पेंशनर्स समाज के अध्यक्ष मेहता ने बताया कि राज्य सरकार के आदेशानुसार जनवरी 16 के पूर्व पेंशनर्स के पे मेट्रिक्स फिक्शेसन 7 थ पे 0.10 प्रतिशत के लिए वर्ष 18 के अगस्त माह मे मांगे गये आवेदन के साथ पी पीओ की फोटो काफी लगाकर पेंशनर समाज द्वारा आवेदन कोष कार्यालय को भेजे गए। कोष कार्यालय प्रतापगढ़ द्वारा पुन: पेंशनर समाज उपशाखाओं को लौटा कर लिखा गया कि इन आवेदनों के साथ विभागीय प्रमाण पत्र लगाकर भेजा जाए। यह प्रमाण पत्र प्रतापगढ़ जिले के लिये ही था । अन्य जिलों मे उक्त प्रमाण पत्र की शर्त लागू नही है। प्रमाण पत्र आपूर्ति के लिए पेंशनरों को अपने अपने विभागों के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं।छह माह से अटके हैं केसअरनोद प्रतापगढ़ तहसील से सेवानिवृत 8 से 10 कर्मचारी पेंशनरों के मामले ६-6 माह से अटके पड़े हैं। अरनोद तहसील कार्यालय के कर्मचारी कहते हैं कि ये कर्मचारी प्रतापगढ़ से सेवानिवृत हुए हैं, जबकि प्रतापगढ़ तहसील का कथन है कि ये अरनोद तहसील के हैं, हमारे यहां इनका रिकार्ड नही है। दोनों ही तहसील नहीं सुन रही हैं। जिला कलक्टर से आग्रह करने पर जनसुनवाई मे 3 दिन मे निस्तारण करने का लिखा था। लेकिन क्रियान्विति नहीं हो पाई।काटे चालान, दी हिदायत प्रतापगढ़ . शहर में पुलिस की यातायात शाखा ने रविवार को कार्रवाई की।इस दौरान शहर के विभिन्न इलाकों में वाहनों की चैकिंग की गई। जिसमें २६ चालान काटे गए। यातायात प्रभारी उप निरीक्षक बलवंतसिंह ने बताया कि शहर प्रतापगढ़ में यातायात नियमों की अवहेलना करने वाले 26 वाहन चालकों के चालान काटे गए। वहीं अन्य को यातायात नियमों की पालना करने की हिदायत दी गई। इस दौरान गांधी चौराहा, जीरो माइल, नीमच नाका, धरियावद नाका पर कार्रवाई की गई।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

बाइक से पेट्रोल निकालकर युवक को स्कूटी सहित जलाया, सीसीटीवी फुटेज में दिखे तीन युवक

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के पिपराली ब्लॉक के पलासिया गांव में शुभकरण हत्याकांड में पुलिस को कई अहम सुराग मिले है। पुलिस...
- Advertisement -

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

किसान बिल को लेकर फूटा सपना चौधरी का गुस्सा

संसद में पास हो चुके दो किसान बिलों के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन की हलचल पूरे देश में फैल रही है. कांग्रेस सहित कई विपक्षी पार्टियां...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

Related News

बाइक से पेट्रोल निकालकर युवक को स्कूटी सहित जलाया, सीसीटीवी फुटेज में दिखे तीन युवक

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के पिपराली ब्लॉक के पलासिया गांव में शुभकरण हत्याकांड में पुलिस को कई अहम सुराग मिले है। पुलिस...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

किसान बिल को लेकर फूटा सपना चौधरी का गुस्सा

संसद में पास हो चुके दो किसान बिलों के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन की हलचल पूरे देश में फैल रही है. कांग्रेस सहित कई विपक्षी पार्टियां...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

कंपनियों को मिल जाएगा कर्मचारियों को किसी भी क्षण निकालने का अधिकार

मोदी सरकार के नए प्रस्तावित कानून के तहत अब हर चार में से तीन कंपनियों को अपने कर्मचारियों को किसी भी क्षण कंपनी से...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here