- Advertisement -
Home News गौरवमयी उपलब्धि: आजादी के बाद पहली बार लालकिले पर लहराया था दौसा...

गौरवमयी उपलब्धि: आजादी के बाद पहली बार लालकिले पर लहराया था दौसा में बना तिरंगा

- Advertisement -

दौसा. जिला मुख्यालय से दक्षिण-पूर्व दिशा में मात्र 10 किलोमीटर दूर छोटा सा कस्बा है आलूदा। 1947 में आजादी के बाद दिल्ली के लालकिले ( For the first time after Independence, the Tricolor made in Dausa was waved on the Red Fort)पर जो पहला तिरंगा लहराया था वह इसी छोटे से कस्बे आलूदा के बुनकरों के हाथों से बुने कपड़े का तैयार किया गया था। यहां के बुनकरों की मानें तो उस वक्त देश भर की खादी संस्थाओं ने अपने बुने कपड़ा तिरंगा बनाने के लिए भेजा था, लेकिन जिस कपड़े का चयन हुआ था, वह आलूदा के चौथमल, नांगलराम व भौंरीलाल महावर द्वारा तैयार कपड़ा था।
इतना गौरव हासिल करने के बाद भी ना तो दौसा समिति और ना ही सरकार ने आलूदा के बुनकरों को प्रोत्साहन दिया। आज आलूदा में बुनकर तो हैं, लेकिन अधिकांश ने अपना काम बदल लिया। अब यहां पर इक्के- दुक्के परिवार ही कपड़े बुनाई के काम से जुड़े हैं। उल्लेखनीय है कि जिले की खादी का अभी भी देशभर में नाम है। यहां की खादी से बुने कपड़े की बैडशीट रेलवे को सप्लाई हो रही है।
प्रोत्साहन मिलता तो नहीं बदलना पड़ता काम आलूदा में मशीन से खादी बुन रहे मांगीलाल महावर ने बताया कि उनके पूर्वज काफी समय से खादी बुनने का ही काम करते आ रहे हैं। जिनके बुने कपड़े ने तिरंगे के रूप में लालकिले की शोभा बढ़ाई थी। उनके पुत्रों ने यह काम छोड़ दूसरा शुरू कर दिया है। यदि खादी समिति या फिर सरकार मदद करती तो वे खादी बुनने के काम को छोड़ते नहीं।
बनेठा में तो अब भी तैयार हो रहा तिरंगे का कपड़ाआलूदा के अधिकांश बुनकरों ने तो खादी का कपड़ा बुनना फिर भी छोड़ दिया, लेकिन आलूदा के उत्तर दिशा में एक छोटा सा गांव बनेठा है। यहां के बुनकर अभी भी बड़े स्तर पर कपड़ा बुन रहे हैं। यदि बात देशभर की करें तो कर्नाटक के हुबली एवं महाराष्ट्र के मराठवाड़ा में भी कुछ बुनकर झण्डा क्लॉथ तैयार कर रहे हैं।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

राजस्थान में आईटीआई में प्रवेश से मोहभंग, 75 फीसदी कॉलेजों की सीट खाली

सीकर. प्रदेश के आईटीआई विद्यार्थियों का ऑनलाइन प्रवेश से पूरी तरह से मोहभंग हो गया है। ऑनलाइन केन्द्रीयकृत प्रवेश के बाद भी प्रदेश...
- Advertisement -

प्रियंका गांधी चुपचाप बदलाव ला रही हैं- अभिषेक मनु सिंघवी

आजादी के बाद कांग्रेस अपने सबसे बुरे दौर में चल रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के कई नेता अपने भाषणों...

कविता:ये भारत का किसान है!

हल लेकर खेतों की ओर आज कोई निकल पड़ा है , फटी जूती, फटे कपड़े बारिश की आस में चल पड़ा है,...

कपड़ों की दुकान में लगी भीषण आग, लाखों का माल खाक

सीकर. राजस्थान के सीकर शहर में दंग की नसियां में शनिवार देर रात एक कपड़े की दुकान में आग लगने से लाखों का...

Related News

राजस्थान में आईटीआई में प्रवेश से मोहभंग, 75 फीसदी कॉलेजों की सीट खाली

सीकर. प्रदेश के आईटीआई विद्यार्थियों का ऑनलाइन प्रवेश से पूरी तरह से मोहभंग हो गया है। ऑनलाइन केन्द्रीयकृत प्रवेश के बाद भी प्रदेश...

प्रियंका गांधी चुपचाप बदलाव ला रही हैं- अभिषेक मनु सिंघवी

आजादी के बाद कांग्रेस अपने सबसे बुरे दौर में चल रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के कई नेता अपने भाषणों...

कविता:ये भारत का किसान है!

हल लेकर खेतों की ओर आज कोई निकल पड़ा है , फटी जूती, फटे कपड़े बारिश की आस में चल पड़ा है,...

कपड़ों की दुकान में लगी भीषण आग, लाखों का माल खाक

सीकर. राजस्थान के सीकर शहर में दंग की नसियां में शनिवार देर रात एक कपड़े की दुकान में आग लगने से लाखों का...

राजस्थान में यहां मूसलाधार बरसात से फसलों को नुकसान

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में शनिवार देर शाम को कई इलाकों में मूसलाधार बरसात हुई। बरसात से कुछ दिनों से बढ़ी उमस...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here