- Advertisement -
Home News बच्चों को लुभा रहे गणेशा व छोटा भीम, महिलाओं की पसंद फैंसी...

बच्चों को लुभा रहे गणेशा व छोटा भीम, महिलाओं की पसंद फैंसी राखियां

- Advertisement -

बीकानेर. रक्षाबंधन पर्व ( raksha bandhan ) 15 अगस्त को मनाया जाएगा। घरों व बाजारों में पर्व की तैयारी शुरू हो गई है। शहर के बाजारों में राखियों की दुकानें सज गई हैं। महिलाओं व लड़कियों ने अपने भाइयों के लिए राखियां खरीदना शुरू कर दिया है। बच्चों में जहां छोटा भीम, गणेशा, डोरीमॉन, टेडी बीयर सहित विभिन्न प्रकार के खिलौनों वाली राखियां आकर्षण का केन्द्र बनी हुई हैं, वहीं महिलाओं में मेटल वाली व चमकीले नग वाली फैंसी राखियों की अधिक मांग है।
 
शहर में दुकानों पर पारम्परिक और कलात्मक राखियों को खरीदने के लिए महिलाओं की भीड़ बढऩी शुरू हो गई है। विभिन्न प्रकार की लूम्बी महिलाओं को आकर्षित कर रही है। दुकानदारों के अनुसार ५ से ५० रुपए तक की कलात्मक राखियां अधिक बिक रही हैं।
 
लुभा रही राखियांदुकानों पर बच्चों की खिलौनों और कार्टून पात्रों की राखियां आकर्षण का केन्द्र बनी हुई है। फड बाजार स्थित एक दुकान संचालक बजरंग लाल अग्रवाल ने बताया कि महिलाएं व लड़कियां बच्चों के लिए विशेष रूप से मोटू-पतलू, छोटा भीम, गणेशा, डोरीमॉन, सीटी और खिलौने लगी राखियां खरीद रही हैं। वहीं कई प्रकार के मोती, नग, रुद्राक्ष वाली राखियों को भी महिलाएं पसंद कर रही हैं। रेशम के धागों से बनी राखियां भी चटकीले रंगों से हर किसी को आकर्षित कर रही है।
 
 
वाटरप्रूफ लिफाफे में भेज सकेंगे राखी
देश के कई हिस्सों में भारी बारिश हो रही है। बारिश से निचले इलाकों में पानी भरने से बहनें अपने भाई को राखी नहीं भेज पा रही है। इसके लिए डाक विभाग की ओर से रक्षाबंधन के अवसर पर वाटरप्रुफ राखी लिफाफे बनवाए गए है। जिसमें बहनें अपने भाई के लिए राखी भेज सकती है। डाक अधीक्षक हरलाल सैनी ने बताया कि एक लिफाफे में सामान्य साइज की तीन राखी भेज सकते है, जबकि छोटी दस राखियां भेज सकते है। वाटरप्रुफ लिफाफे दो तरह के है और प्रकार के रंगों में उपलब्ध है जिनका मूल्य साढ़े पांच रुपए वसाढ़े सात रुपए है। इसके अलावा पांच रुपए का डाक टिकट भी लगाया जाता है।
 
 
राखी बांधने के लिए पूरा दिन श्रेष्ठराखी बांधने के लिए इस बार पूरा दिन श्रेष्ठ है। बहनें अपने भाइयों के हाथों पर दिनभर राखियां बांध सकेगी। ज्योतिषाचार्य पं. राजेन्द्रकिराडू ने बताया कि १५ अगस्त को रक्षाबंधन पर्व है। दिनभर भद्रा नहीं होने से पूरा दिन राखियां बांधने के लिए श्रेष्ठ रहेगा। उन्होंने बताया कि सावन के पहले दिन से चले रहे व्रत-अुनष्ठान की पूर्णाहुति भी इसी दिन होगी।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

कोरोना ने फिर पार किया शतक, एक परिवार में 17 पॉजिटिव

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में रविवार को फिर कोरोना का कहर सामने आए। जिले में दिनभर में 105 नए कोरोना पॉजिटिव केस...
- Advertisement -

आप गलत सोचते है, राजा चौपट नहीं राजा चौकस है.

इधर हम फिल्म एक्टरों के नशे की कहानियों में डूबे रहे, उधर चौकस राजा ने किसानों पर बिल पास करा लिए. अब देखो सरकार...

राजस्थान में आईटीआई में प्रवेश से मोहभंग, 75 फीसदी कॉलेजों की सीट खाली

सीकर. प्रदेश के आईटीआई विद्यार्थियों का ऑनलाइन प्रवेश से पूरी तरह से मोहभंग हो गया है। ऑनलाइन केन्द्रीयकृत प्रवेश के बाद भी प्रदेश...

प्रियंका गांधी चुपचाप बदलाव ला रही हैं- अभिषेक मनु सिंघवी

आजादी के बाद कांग्रेस अपने सबसे बुरे दौर में चल रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के कई नेता अपने भाषणों...

Related News

कोरोना ने फिर पार किया शतक, एक परिवार में 17 पॉजिटिव

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में रविवार को फिर कोरोना का कहर सामने आए। जिले में दिनभर में 105 नए कोरोना पॉजिटिव केस...

आप गलत सोचते है, राजा चौपट नहीं राजा चौकस है.

इधर हम फिल्म एक्टरों के नशे की कहानियों में डूबे रहे, उधर चौकस राजा ने किसानों पर बिल पास करा लिए. अब देखो सरकार...

राजस्थान में आईटीआई में प्रवेश से मोहभंग, 75 फीसदी कॉलेजों की सीट खाली

सीकर. प्रदेश के आईटीआई विद्यार्थियों का ऑनलाइन प्रवेश से पूरी तरह से मोहभंग हो गया है। ऑनलाइन केन्द्रीयकृत प्रवेश के बाद भी प्रदेश...

प्रियंका गांधी चुपचाप बदलाव ला रही हैं- अभिषेक मनु सिंघवी

आजादी के बाद कांग्रेस अपने सबसे बुरे दौर में चल रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के कई नेता अपने भाषणों...

कविता:ये भारत का किसान है!

हल लेकर खेतों की ओर आज कोई निकल पड़ा है , फटी जूती, फटे कपड़े बारिश की आस में चल पड़ा है,...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here