- Advertisement -
Home Rajasthan News Sikar news न्यू पेंशन स्कीम की वजह से 52 हजार वेतन वाले शिक्षक को...

न्यू पेंशन स्कीम की वजह से 52 हजार वेतन वाले शिक्षक को मिल रही 1990 रुपए पेंशन, पढ़ें पूरी खबर

- Advertisement -

सीकर.
एनएपीएस ( New NPS Scheme ) लागू होने के बाद सेवानिवृत्ति के बाद कर्मचारियों को मिलने वाली राशि से कई के अरमान टूट गए है। सेवानिवृत्ति के बाद एनपीएस से कर्मचारियों के लिए घर चलाना मुश्किल हो रहा हैं। आराम करने के समय एनपीएस कर्मचारी निजी संस्थानों में नौकरी करने पर मजबूर हैं। 22 दिसंबर 2003 में केंद्र सरकार ( Central Government ) ने पुरानी पेंशन स्कीम ( Old Pension Scheme ) को बंद कर न्यू पेंशन स्कीम शुरू करने का नोटिफिकेशन जारी किया। सबसे पहले 1 जनवरी 2004 से राजस्थान सरकार ने इसे लागू किया। जबकि हिमाचल प्रदेश में 2005 में तथा त्रिपुरा में 2018 में यह स्किम लागू की गई। राजस्थान में प्रदेश के मार्च 2018 तक 3 लाख 19 हजार 898 एनपीएस कर्मचारियों सेवानिवृत्त हुए।
यह है मामलाजानकारी के अनुसार राजस्थान में 1 जनवरी 2004 के बाद कर्मचारियों को न्यू पेंशन स्कीम एम्पलॉइज (एनपीएस) के तहत नियुक्त दी जा रही हैं। नौकरी के दौरान कर्मचारियों का 10 प्रतिशत और 10 प्रतिशत पैसा राज्य सरकार की ओर से एनपीएस फंड में जमा होता हैं। नौकरी से कर्मचारी के सेवानिवृत्त होने के बाद इस फंड में से वेतन का 60 प्रतिशत पैसा कर्मचारियों को मिलता हैं। लेकिन इसमें से भी 30 प्रतिशत पैसा कर्मचारी को इनकम टैक्स के रूप में देना पड़ता है। इसके बाद फंड का 40 प्रतिशत पैसा एलआइसी के रूप में जमा होता हैं। उसी पैसे का ब्याज प्रतिमाह कर्मचारियों को पेंशन के रूप में मिल रहा हैं।
Read More :
इंतजार खत्म, देर रात तक हुए आठ हजार शिक्षकों के तबादले
लंबी बीमारी से पीडि़त बहन के घर मिला आसराकोटा शहर निवासी बीना तेहलानी 31 मार्च 2019 को सिरोही जिले में स्थित राजकीय शिक्षाकर्मी स्कूल जेठावाड़ा से प्रबोधक पद से सेवानिवृत्त हुई। बीना तलाक कोटे से 2008 में नौकरी लगी। सेवानिवृत्ति से पहले बीना को अंतिम वेतन के रूप में 50 हजार रुपए मिले। लंबी बीमारी से पीडि़त बीना की देखरेख करने वाला परिवार में कोई नहीं हैं। सेवानिवृत्ति के बाद अपनी बहन के पास इंदौर में रह रही हैं। 10 साल सरकारी नौकरी में सेवाएं देने के बाद बीना को प्रतिमाह महज 1700 रूपए मिल रहे हैं।
घर चलाना हुआ मुश्किलफतेहपुर ब्लॉक के रलावता पंचायत में फतेहपुरा गांव के रहने वाले शिवनाथ वर्मा फरवरी 2019 में सेवानिवृत्त हुए। फतेहपुरा के यूपीएस स्कूल से सेवानिवृत्ति के समय अंतिम वेतन के रूप में शिवनाथ को 52 हजार रुपए मिले। लेकिन सेवानिवृत्ति के बाद प्रतिमाह पेंशन के रूप में 1990 रुपए मिल रहे हैं। शिवनाथ का कहना है कि वर्ष 2004 से पहले सेवानिवृत्ति के बाद कर्मचारी को वेतन की आधी पेंशन और मेडिकल सुविधा दी जा रही थी। अब वेतन की आधी पेंशन तो दूर कर्मचारियों को मेडिकल तक नहीं मिल रहा हैं। उन्होंने बताया कि मैंने 1999 में राजीव गांधी स्वर्ण जयंती स्कूल में अस्थाई पद पर 1200 रुपए मानदेय के साथ ज्वाइनिंग किया। उस समय प्रदेश में 20 हजार स्कूल खोले गए थे। वर्ष 2008 तक मानदेय 4400 रुपए तक बढ़ा।
Read More :
जिसको गर्भ में मारना चाहा, आज वही बेटी कर रही मां-बाप का नाम रोशन

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

शिवराज और उनकी पत्नी साधना सिंह दोनों हुए ट्रोल

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पत्नी साधना सिंह पर कविता चोरी करने का आरोप लगा है. मुख्यमंत्री ने उसे साधना सिंह की...
- Advertisement -

किसानों और सरकार के बीच सुलह पर बड़ा संकट

कृषि कानून के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी है. बीते दिन सरकार के साथ बातचीत फेल होने के बाद किसानों ने आक्रामक रुख अपना...

खतरनाक हुआ कोरोना, 12 घंटे में ही दम तोड़ रहे मरीज

(Corona became dangerous, patients dying in 12 hours) सीकर. कोरोना वायरस अब ज्यादा खतरनाक होता जा रहा है। संक्रमित करने के बाद यह...

शराबी सिपाही की कार खंभे से टकरा कर दुकान में घुसी, सटर व बरामदा टूटकर गिरा

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में शराब के नशे में सिपाही की कार खंभे से टकराकर एक दुकान में घुसने का मामला सामने...

Related News

शिवराज और उनकी पत्नी साधना सिंह दोनों हुए ट्रोल

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पत्नी साधना सिंह पर कविता चोरी करने का आरोप लगा है. मुख्यमंत्री ने उसे साधना सिंह की...

किसानों और सरकार के बीच सुलह पर बड़ा संकट

कृषि कानून के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी है. बीते दिन सरकार के साथ बातचीत फेल होने के बाद किसानों ने आक्रामक रुख अपना...

खतरनाक हुआ कोरोना, 12 घंटे में ही दम तोड़ रहे मरीज

(Corona became dangerous, patients dying in 12 hours) सीकर. कोरोना वायरस अब ज्यादा खतरनाक होता जा रहा है। संक्रमित करने के बाद यह...

शराबी सिपाही की कार खंभे से टकरा कर दुकान में घुसी, सटर व बरामदा टूटकर गिरा

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में शराब के नशे में सिपाही की कार खंभे से टकराकर एक दुकान में घुसने का मामला सामने...

11 दिसंबर बाद पूरा होगा 31 हजार सरकारी नौकरी का 12 लाख युवाओं का इंतजार

सीकर. प्रदेश के 12 लाख से अधिक युवाओं के शिक्षक बनने की आस थोड़ी दूर हो गई है। बीएसटीसी व बीएड डिग्रीधारी युवाओं...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here