- Advertisement -
Home News स्थानीय लोगो के दावे बिलकुल उलट

स्थानीय लोगो के दावे बिलकुल उलट

- Advertisement -

कूचबिहार के शीतलकुची में हुई फ़ायरिंग में चार लोगों की मौत के मामले में स्थानीय लोगों ने भी प्रतिक्रिया दी है. स्थानीय लोगों ने बांग्ला अख़बार ‘आनंद बाज़ार पत्रिका’ को बताया कि शीतलकुची के जोड़ापाटकी इलाक़े में सुबह से ही तनाव था और टीएमसी व बीजेपी के कार्यकर्ताओं में झड़पें हुई थीं.
लेकिन बूथ पर मतदान करने आए लोगों पर केंद्रीय सुरक्षा बलों के जवानों ने बग़ैर किसी उकसावे को गोलियां चलाईं और उनकी छाती पर गोलियां मारीं. ‘आनंद बाज़ार पत्रिका’ ने एक अन्य खबर में स्थानीय वाशिंदों के हवाले से कहा है कि शीतलकुची के पठानटोली शालबाड़ी गांव के बूथ नंबर 258 पर वोट देने गए आनंद बर्मन की मौत गोली लगने से हो गई.
ख़बरों के मुताबिक, आनंद पहली बार वोट देने गए थे, लाइन में ही थे, लेकिन अचानक बीजेपी व TMC समर्थकों में झगड़ा हुआ और कहीं से गोलियां चलने लगीं. आनंद बर्मन ने भाग कर जान बचाने की कोशिश की लेकिन एक गोली उनकी पीठ में लगी. स्थानीय बीजेपी नेताओं ने दावा किया है कि आनंद बर्मन उनकी पार्टी से जुड़े हुए थे. बीजेपी ने आनंद की मौत के लिए टीएमसी को ज़िम्मेदार ठहराया है.
लेकिन TMC ने इससे इनकार करते हुए कहा है कि यह बीजेपी की अंदरूनी मारपीट का मामला था. बाद में इस इलाक़े में रैपिड एक्शन फ़ोर्स यानी रैफ़ को उतारा गया. रैफ ने स्थिति पर काबू पाने के लिए लाठीचार्ज किया. इस मामले में सीआईएसएफ़ की ओर से स्पष्टीकरण जारी किया गया है. सीआईएसएफ़ ने कहा है कि इस घटना में 5-6 शरारती तत्वों को गंभीर चोटें आईं और बाद में उनकी मौत हो गई.
सीआईएसएफ़ ने कहा है कि 150 लोगों का एक झुंड आया और इन लोगों ने बूथ नंबर 186 पर पहुंचकर वहां तैनात पोलिंग स्टाफ़ के साथ अभद्रता शुरू कर दी. उन्होंने बूथ पर तैनात होम गार्ड और आशा कार्यकर्ता से मारपीट की. सीआईएसएफ़ के मुताबिक़, इसमें शामिल लोगों ने वहां चुनाव ड्यूटी में तैनात कई और लोगों से मारपीट की.
कुछ लोगों ने सीआईएसएफ़ के कर्मियों से हथियार लूटने की कोशिश भी की. सीआईएसएफ़ ने आगे कहा है, इसके बाद केंद्रीय बल के जवानों ने हवा में दो गोलियां चलाईं लेकिन लोग मनमानी करते रहे. इसी बीच, क्यूआरटी की टीम जब वहां पहुंची तो भीड़ सीआईएसएफ़ के जवानों की ओर बढ़ने लगी. अपनी जान को ख़तरे में देख जवानों ने भीड़ पर सात और गोलियां चलाईं.
The post स्थानीय लोगो के दावे बिलकुल उलट appeared first on THOUGHT OF NATION.

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

कोरोना संक्रमण बढ़ा, मौत का आंकड़ा घटा

(Corona infection increased, death toll decreased in sikar) सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में शुक्रवार को कोरोना (Corona Virus) संक्रमितों का आंकड़ा फिर...
- Advertisement -

VIDEO: डकैतों ने दिन दहाड़े व्यापारियों पर किया हमला, 35 लाख रुपए लेकर फरार

सीकर/लक्ष्मणगढ़़. राजस्थान के सीकर जिले के लक्ष्मणगढ़ कस्बे में शुक्रवार को दिन दहाड़े व्यापारी से 35 लाख रुपए की डकैती का मामला सामने...

ऑनलाइन परीक्षा करवाएगा शेखावाटी विश्वविद्यालय, कवायद शुरू

सीकर. कोरोना से सीख लेते हुए अब पंडित दीनदयाल उपाध्याय शेखावाटी विश्वविद्यालय ने ऑनलाइन परीक्षाओं की तरफ कदम आगे बढ़ाने शुरू कर दिए...

डोटासरा का पलटवार: 25 सांसदों के साथ केंद्र से ऑक्सीजन व टीके मांगे पूनियां

सीकर. प्रदेश सरकार पर कोरोना कुप्रबंधन व केंद्र सरकार को बदनाम करने के भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां (rajasthan bjp president satish poonia) के...

Related News

कोरोना संक्रमण बढ़ा, मौत का आंकड़ा घटा

(Corona infection increased, death toll decreased in sikar) सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में शुक्रवार को कोरोना (Corona Virus) संक्रमितों का आंकड़ा फिर...

VIDEO: डकैतों ने दिन दहाड़े व्यापारियों पर किया हमला, 35 लाख रुपए लेकर फरार

सीकर/लक्ष्मणगढ़़. राजस्थान के सीकर जिले के लक्ष्मणगढ़ कस्बे में शुक्रवार को दिन दहाड़े व्यापारी से 35 लाख रुपए की डकैती का मामला सामने...

ऑनलाइन परीक्षा करवाएगा शेखावाटी विश्वविद्यालय, कवायद शुरू

सीकर. कोरोना से सीख लेते हुए अब पंडित दीनदयाल उपाध्याय शेखावाटी विश्वविद्यालय ने ऑनलाइन परीक्षाओं की तरफ कदम आगे बढ़ाने शुरू कर दिए...

डोटासरा का पलटवार: 25 सांसदों के साथ केंद्र से ऑक्सीजन व टीके मांगे पूनियां

सीकर. प्रदेश सरकार पर कोरोना कुप्रबंधन व केंद्र सरकार को बदनाम करने के भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां (rajasthan bjp president satish poonia) के...

15 साल में 10 फीसदी गांवों के भी नहीं बने मास्टर प्लान, अब फिर नया फरमान

सीकर. पिछले 15 साल से गूंज रहा गांव-ढाणियों के मास्टर प्लान का दावा हर सरकार में झूठा ही साबित हुआ है। इसके पीछे...
- Advertisement -