- Advertisement -
Home News हिंदुस्तान के इतिहास के सबसे घटिया दौर की राजनीति पर उतर आई...

हिंदुस्तान के इतिहास के सबसे घटिया दौर की राजनीति पर उतर आई है भाजपा

- Advertisement -

राहुल गांधी लगातार भाजपा और आरएसएस के खिलाफ मुखर होकर बोलते रहे हैं.देशभर में आरएसएस और भाजपा के नेताओं ने कार्यकर्ताओं ने राहुल गांधी के खिलाफ अलग-अलग जगहों पर केस किया हुआ है.राहुल गांधी ने अभी कुछ दिन पहले बयान दिया था कि यह केस उनके सीने पर मेडल जैसे हैं.

राहुल गांधी ने अभी कुछ दिन पहले बलात्कारियों के खिलाफ बयान दिया था. आपको बताते चलें कि देश में लगातार बलात्कार की घटनाएं सामने आ रही हैं. महिलाओं के साथ बच्चियों के साथ अपराधिक घटनाओं में कई गुना इजाफा हुआ है. ऐसा लग रहा है जैसे कानून ने बलात्कारियों के सामने घुटने टेक दिए. बलात्कारियों के ऊपर कानून का खौफ बिल्कुल भी दिखाई नहीं दे रहा है. अभी खबर आई थी कि, एक बलात्कार पीड़िता को बलात्कारी ने धमकी दी थी कि उन्नाव से भी बुरी हालत करेंगे अगर मुंह खोला तो.

बलात्कार की इन्हीं घटनाओं से आक्रोशित होकर राहुल गांधी ने बलात्कारियों के खिलाफ बयान दिया था जिसको लेकर आज संसद में भाजपा की महिला सांसदों में और पुरुष सांसदों में काफी हंगामा किया. भाजपा की महिला सांसद स्मृति ईरानी ने यहां तक कह दिया कि राहुल गांधी ने देश का अपमान किया है, भाजपा के सभी सांसदों में राहुल गांधी से माफी की मांग की है. स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी को दण्डित किये जाने की मांग की. इसके अलावा भाजपा के वरिष्ठ नेता और वर्तमान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी राहुल गांधी से माफी की मांग की है राहुल गांधी के बयान को देश का अपमान बताया है.

लोकसभा में भाजपा के सांसदों द्वारा किए गए हंगामे को लेकर कई सवाल पैदा हो रहे हैं. सबसे पहला सवाल यह पैदा हो रहा है कि, जब कुलदीप सिंह सेंगर और चिन्मयानंद पर महिला ने बलात्कार के आरोप लगाए उस समय यह भाजपा के नेता कहां थे ? बलात्कार पीड़िता के साथ स्मृति ईरानी से लेकर भाजपा के तमाम नेता खड़े क्यों नहीं हुए ?

राजनाथ सिंह स्मृति ईरानी और तमाम नेताओं ने कुलदीप सिंह सेंगर और चिन्मयानंद को पार्टी से निकाले जाने की मांग क्यों नहीं की ? कुलदीप सिंह और चिन्मयानंद का जब नाम बलात्कार केस में आया उस समय इन नेताओं ने चुप्पी साध कर के आदेश का अपमान नहीं किया ? उन बलात्कार पीड़ित महिलाओं का अपमान नहीं किया ?

आपको बताते चलें कि चुनाव प्रचार के दौरान दिल्ली में एक रैली करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने दिल्ली को रेप कैपिटल बताया था. राजनाथ सिंह से लेकर स्मृति ईरानी और तमाम भाजपा के नेता चाहे वह महिला हो या पुरुष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से माफी की मांग करेंगे ? क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संसद में खड़ा होकर माफी मांगने के लिए मजबूर करेंगे ?

अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से यह तमाम भाजपा के महिला और पुरुष सांसद माफी की मांग नहीं करते हैं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मामले में चुप्पी साध लेते हैं और राहुल गांधी के मामले में माफी की मांग करते हैं तो, सिर्फ और सिर्फ इसे मौकापरस्त और घटिया राजनीति का परिचायक माना जाएगा. आज जो भाजपा सांसदों की तरफ से हंगामा किया गया और राजनाथ सिंह स्मृति ईरानी और तमाम भाजपा के नेताओं की तरफ से राहुल गांधी को लेकर बयान दिए गए वह सिर्फ और सिर्फ नागरिकता संशोधन बिल को लेकर असम के साथ- साथ जो पूरा पूर्वोत्तर सड़कों पर उतरा हुआ है, विरोध प्रदर्शन कर रहा है, उसी मामले को दबाने के लिए किया गया है.

पिछले कुछ सालों में सिर्फ उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में कई बलात्कार के केस सामने आए हैं. बलात्कार पीड़िता के पूरे परिवार को खत्म कर दिया गया, बलात्कार पीड़िता को भी मारने की कोशिश की गई, उस समय भाजपा के तमाम महिला और पुरुष सांसद उस बलात्कार पीड़िता के साथ खड़े क्यों नहीं हुए ? क्या यह नहीं माना जाना चाहिए कि राहुल गांधी से माफी की मांग करके भाजपा के तमाम नेता और साथ में स्मृति ईरानी भी बलात्कारियों का साथ दे रही है?

अगर माफी ही मंगवानी है तो जिन भाजपा शासित राज्यों में बलात्कार के केस रिकॉर्ड तोड़ चुके हैं, लगातार बलात्कार की घटनाएं हो रही हैं, उन भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से माफी मंगवाने की मांग क्यों नहीं हो रही है भाजपा की महिला सांसदों द्वारा ? सच्चाई तो यह है कि राहुल गांधी द्वारा जो बलात्कारियों के खिलाफ बयान दिया गया उस पर राहुल गांधी से माफी की मांग करके भाजपा के तमाम नेता आज बलात्कारियों के समर्थन में खड़े हुए नजर आ रहे हैं. इससे पहले भी भाजपा के महिला और पुरुष सांसद आज़म खान की शायरी पर हंगामा खड़ा कर चुके है,और देश में बलात्कार की शिकार हो रही बच्चियों और महिलाओं पर चुप्पी साध चुके है.

क्या सच में भाजपा नेता जनता के सवालों से डर चुके हैं ?जनता के विरोध प्रदर्शन से डर चुके हैं ? देश के मुद्दों को दबाने के लिए भाजपा अब ओछी राजनीति पर उतर आई है ?

Thought of Nation राष्ट्र के विचार

The post हिंदुस्तान के इतिहास के सबसे घटिया दौर की राजनीति पर उतर आई है भाजपा appeared first on Thought of Nation.

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

कोरोना के आंकड़ों में गड़बड़ी, कम केस बता रहा विभाग!

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में स्वास्थ्य विभाग कोरोना के आंकड़ों में हेरफेर के सवालों से घिर गया है। सीएमएचओ डा. अजय चौधरी...
- Advertisement -

VIDEO: सीएलजी की बैठकों में छाया कोरोना का मुद्दा

(CLG Meeting Held in many police Stations in sikar) सीकर. जिले की शहर कोतवाली व लक्ष्मणगढ़ सहित कई थानों में रविवार को सीएलजी...

VIDEO. क्रेशर मशीन के पट्टे में आने से मजदूर की दर्दनाक मौत, परिजनों ने शव उठाने से किया इन्कार

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के अजीतगढ़ थाना इलाके में हरिपुरा मोड़ पर एक क्रेशर के पट्टे में आने से एक मजदूर की...

VIRAL VIDEO. आरटीआई का जवाब लेने गए युवक से मारपीट

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में आरटीआई एक्ट के तहत जवाब लेने गए संविदाकर्मी के साथ मारपीट का उप महानिरीक्षक कार्यालय में मारपीट...

Related News

कोरोना के आंकड़ों में गड़बड़ी, कम केस बता रहा विभाग!

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में स्वास्थ्य विभाग कोरोना के आंकड़ों में हेरफेर के सवालों से घिर गया है। सीएमएचओ डा. अजय चौधरी...

VIDEO: सीएलजी की बैठकों में छाया कोरोना का मुद्दा

(CLG Meeting Held in many police Stations in sikar) सीकर. जिले की शहर कोतवाली व लक्ष्मणगढ़ सहित कई थानों में रविवार को सीएलजी...

VIDEO. क्रेशर मशीन के पट्टे में आने से मजदूर की दर्दनाक मौत, परिजनों ने शव उठाने से किया इन्कार

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के अजीतगढ़ थाना इलाके में हरिपुरा मोड़ पर एक क्रेशर के पट्टे में आने से एक मजदूर की...

VIRAL VIDEO. आरटीआई का जवाब लेने गए युवक से मारपीट

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में आरटीआई एक्ट के तहत जवाब लेने गए संविदाकर्मी के साथ मारपीट का उप महानिरीक्षक कार्यालय में मारपीट...

राजस्थान के शिक्षक संगठनों की होगी गिरदावरी, मान्यता देगा विभाग

सीकर. राजस्थान में शिक्षक संगठनों की अब गिरदावरी होगी। सदस्य संख्या, कार्य व अन्य मापदंडों के आधार पर उन्हें विभाग द्वारा मान्यता भी...
- Advertisement -