- Advertisement -
Home News बीकानेर : लिंगदोह कमेटी की सिफारिश दर किनार कर कैम्पस के बाहर...

बीकानेर : लिंगदोह कमेटी की सिफारिश दर किनार कर कैम्पस के बाहर कर रहे प्रचार

- Advertisement -

बीकानेर. Lyngdoh committee’s recommended . कॉलेजों व विश्वविद्यालयों में छात्रसंघ को लेकर चुनाव प्रचार कॉलेज व विवि परिसर के अलावा शहर के सार्वजनिक स्थानों पर ज्यादा दिखाई देने लगा है। छात्रसंघ चुनाव की आचार संहिता लगने के बाद भी सार्वजनिक स्थानों, गली-मोहल्ले में संभावित प्रत्याशियों व उम्मीदवारों की ओर से चुनाव प्रचार को लेकर पोस्टर लगाए गए है। इससे लिंगदोह कमेटी की सिफारिशों का जमकर उल्लंघन हो रहा है लेकिन कॉलेज प्रशासन आंखे मूंदे बैठा है। इस पर कॉलेज प्रशासन की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की जाती है।
 
सोमवार से कॉलेजों व विश्वविद्यालयों में छात्रसंघ चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। सोमवार को सुबह १० से ३ बजे तक सभी कॉलेजों व विश्वविद्यालयों में मतदाता सूची का प्रकाशन किया जाएगा। मंगलवार को सुबह १० से दोपहर एक बजे तक मतदाता सूचियों पर आपत्ति प्राप्त करना व दोपहर २ से सायं ५ बजे तक मतदाता सूचियों का अंतिम प्रकाशन होगा।
 
दबाव की राजनीति शुरूकॉलेज व विश्वविद्यालयों में अध्यक्ष पद के लिए एक ही संगठन से कई उम्मीदवार खड़े होने पर अब दबाव की राजनीति शुरू हो गई है। कई उम्मीदवार चुनाव लडऩे की मंशा जता रहे है तो कुछ पूर्व छात्रनेता के दबाव में आकर उम्मीदवार को बैठाकर समर्थन देने की बात कही जा रही है।
 
प्रत्याशियों की घोषणा आज सेसभी छात्र संगठन सोमवार से कॉलेजों में अपन प्रत्याशी की घोषणा करेंगे। सोमवार को छात्रसंगठन तीन या चार कॉलेज में ही अपने प्रत्याशी उतारेंगे। वहीं कुछ छात्रसंगठन एक ही दिन में सभी कॉलेजों के प्रत्याशी घोषित करेंगे।
 
कर रहे हॉस्टल व अन्य जगहों पर गुप्त बैठकें छात्रसंघ के चुनाव में तैयारियों को लेकर रविवार को हॉस्टल व अन्य जगहों पर गुप्त बैठकें हुई। इन बैठकों में कई छात्रसंगठनों के पदाधिकारी व समाज के लोगों द्वारा सर्वसम्मिति से अपने पसंदीदा उम्मीदवारों के चयन और कॉलेज में छात्रों के बीच उनके व्यवहार, छात्र राजनीति में उसके अनुभव आदि को ध्यान में रखकर गहन विचार-विमर्श किया गया। हॉस्टल में छोटे-छोटे समूहों के साथ बैठकर छात्रसंघ के विभिन्न पदों को लेकर चुनाव में हाथ अजमाने वाले हर उम्मीदवार की कुंडली खंगाली जा रही है। इसी रणनीति के अनुसार कॉलेज परिसर में पूरे दिन दूसरे छात्रों से संभावित उम्मीदवारों का फीडबैक लिया गया।
 
लिंगदोह कमेटी के नियम और हकीकत
नियम : किसी भी उम्मीदवार को छपे हुए पोस्टर्स या अन्य किसी छपी हुई सामग्री का प्रचार के लिए उपयोग की अनुमति नहीं होगी। उम्मीदवार प्रचार के लिए केवल हस्तनिर्मित पोस्टर्स का उपयोग कर सकेंगे। हकीकत : कॉलेजों में उम्मीदवार प्रिंटेड पोस्टर की सामग्री प्रचार के लिए उपयोग कर रहे है, इसके लिए कोई अनुमति नहीं ली जाती है। नियम : उम्मीदवार केवल हस्तनिर्मित पोस्टर्स का उपयोग परिसर में कुछ जगहों पर कर सकेंगे जो कि पूर्व में ही विवि व महाविद्यालय की ओर से अधिसूचित किए जाएंगे। हकीकत : इन दिनों उम्मीदवारों की ओर से हस्तनिर्मित पोस्टर्स की बजाय प्रिंटेड पोस्टर को परिसर के अलावा परिसर के बाहर सार्वजनिक स्थानों पर लगाया जा रहा है। विवि व महाविद्यालय की ओर से सूचित जगहों पर यह पोस्टर नहीं लगाए जा रहे हैं। नियम : किसी भी उम्मीदवार को विश्वविद्यालय-महाविद्यालय परिसर के बाहर रैलियां, जनसभा या प्रचार सामग्री वितरित करने की अनुमति नहीं होगी। हकीकत : उम्मीदवारों की ओर से विश्वविद्यालय व महाविद्यालय परिसर में बड़ी संख्या में रैलियां व जनसभाएं की जा रही है। साथ ही कॉलेजों व विवि के मुख्य द्वार भी बंद किया जा रहा है। परिसर व परिसर के बाहर प्रचार सामग्री वितरित की जा रही है। नियम : प्रचार के लिए लाउड स्पीकर, वाहनों और जानवरों का उपयोग निषिद्ध है। हकीकत : कॉलेजों व विवि में उम्मीदवार अभी से बड़ी-बड़ी गाडि़यां लेकर आ रहे है। इन गाडि़यों के साथ लाउडस्पीकर लगाकर चुनाव प्रचार प्रसार किया जा रहा है।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

बाइक से पेट्रोल निकालकर युवक को स्कूटी सहित जलाया, सीसीटीवी फुटेज में दिखे तीन युवक

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के पिपराली ब्लॉक के पलासिया गांव में शुभकरण हत्याकांड में पुलिस को कई अहम सुराग मिले है। पुलिस...
- Advertisement -

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

किसान बिल को लेकर फूटा सपना चौधरी का गुस्सा

संसद में पास हो चुके दो किसान बिलों के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन की हलचल पूरे देश में फैल रही है. कांग्रेस सहित कई विपक्षी पार्टियां...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

Related News

बाइक से पेट्रोल निकालकर युवक को स्कूटी सहित जलाया, सीसीटीवी फुटेज में दिखे तीन युवक

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के पिपराली ब्लॉक के पलासिया गांव में शुभकरण हत्याकांड में पुलिस को कई अहम सुराग मिले है। पुलिस...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

किसान बिल को लेकर फूटा सपना चौधरी का गुस्सा

संसद में पास हो चुके दो किसान बिलों के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन की हलचल पूरे देश में फैल रही है. कांग्रेस सहित कई विपक्षी पार्टियां...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

कंपनियों को मिल जाएगा कर्मचारियों को किसी भी क्षण निकालने का अधिकार

मोदी सरकार के नए प्रस्तावित कानून के तहत अब हर चार में से तीन कंपनियों को अपने कर्मचारियों को किसी भी क्षण कंपनी से...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here