- Advertisement -
Home News भिवाड़ी मॉब लिंचिंग : हरीश जाटव के पिता की मौत के बाद...

भिवाड़ी मॉब लिंचिंग : हरीश जाटव के पिता की मौत के बाद हंगामा, धरने पर बैठे ग्रामीण और भाजपा नेता, नहीं होने दे रहे पोस्टमार्टम

- Advertisement -

अलवर. Bhiwadi Harish Jatav Mob Lynching अलवर जिले के ( bhiwadi mob Lynching ) भिवाड़ी में हरीश जाटव मॉब लिंचिंग प्रकरण ( harish jatav mob lynching ) में हरीश जाटव के पिता ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली। हरीश जाटव के पिता रतिराम ने गुरुवार शाम सेल्फॉस खा लिया, इसके बाद उन्हें अलवर सामान्य अस्पताल के लिए रैफर किया गया, जहां ले जाते समय रास्ते में ही उनकी मौत हो गई। उनके शव को वापस टपूकड़ा लाया गया। उनके शव को टपूकड़ा सीएचसी में रखवाया गया है। वहीं टपूकड़ा सीएचसी में ग्रामीण हंगामा कर रहे हैं, मृतक रतिराम के परिवार के सदस्य विलाप कर रहे हैं। टपूकड़ा सीएचसी में भीड़ जमा है। ग्रामीण रतिराम का पोस्टमार्टम नहीं होने दे रहे हैं। ग्रामीणों की मांग है कि जब तक मॉब लिंचिंग के आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जाता, वे मृतक रतिराम का पोस्टमार्टम नहीं होने देंगे।
टपूकड़ा सीएचसी के बाहर धरने पर बैठे भाजपा नेता और ग्रामीण
पहले हरीश जाटव की मौत और अब उसके पिता रतिराम की आत्महत्या के बाद इलाके का माहौल गरमा गया है, टपूकड़ा सीएचसी पर भाजपा नेताओं ने धरना दे दिया है। अलवर ग्रमाीण से भाजपा प्रत्याशी और जिला महामंत्री रामकिशन मेघवाल, पूर्व विधायक मामन सिंह यादव, भिवाड़ी नगर परिषद सभापति संदीप दायमा सहित कई भाजपा नेता और पदाधिकारी धरने पर बैठ गए हैं। भाजपा महामंत्री रामकिशन ने कहा कि पुलिस प्रशासन दलितों के साथ अन्याय कर रहा है। रामकिशन ने पुलिस पर आरोप लगाया कि पुलिस ने हरीश जाटव के पिता पर लेन-देन से मामले का फैसला करने का दबाव बनाया, टपूकड़ा में एसपी औ आईजी आए, लेकिन कार्रवाई नहीं की, उन्होंने कहा कि उनकी मांग है कि सरकार हरीश जाटव के आरोपियों को गिरफ्तार करे और सरकार हरीश जाटव की पत्नी को सरकारी नौकरी दे।
यह है प्रकरण
चौपानकी थाना इलाके के गांव झिवाणा निवासी हरीश जाटव पुत्र रतिराम जाटव 16 जुलाई की रात को फलसा गांव में गंभीर घायल व अचेत अवस्था में पड़ा मिला। पुलिस ने उसे भिवाड़ी सीएचसी में भर्ती कराया। हालत गंभीर होने पर परिजन उसे इलाज के लिए दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल ले गए। वहां 18 जुलाई को हरीश की मौत हो गई। इससे एक दिन पहले 17 जुलाई को पिता रतिराम ने फलसा गांव के कुछ लोगों के खिलाफ बाइक भिडऩे की बात पर हरीश के साथ गंभीर मारपीट करने का प्रकरण दर्ज कराया। वहीं, दूसरे पक्ष के जमालुदीन ने अपनी पत्नी हकीमन को बाइक से टक्कर मारने का मामला हरीश के खिलाफ दर्ज कराया था।
 

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

बाइक से पेट्रोल निकालकर युवक को स्कूटी सहित जलाया, सीसीटीवी फुटेज में दिखे तीन युवक

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के पिपराली ब्लॉक के पलासिया गांव में शुभकरण हत्याकांड में पुलिस को कई अहम सुराग मिले है। पुलिस...
- Advertisement -

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

किसान बिल को लेकर फूटा सपना चौधरी का गुस्सा

संसद में पास हो चुके दो किसान बिलों के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन की हलचल पूरे देश में फैल रही है. कांग्रेस सहित कई विपक्षी पार्टियां...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

Related News

बाइक से पेट्रोल निकालकर युवक को स्कूटी सहित जलाया, सीसीटीवी फुटेज में दिखे तीन युवक

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के पिपराली ब्लॉक के पलासिया गांव में शुभकरण हत्याकांड में पुलिस को कई अहम सुराग मिले है। पुलिस...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

किसान बिल को लेकर फूटा सपना चौधरी का गुस्सा

संसद में पास हो चुके दो किसान बिलों के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन की हलचल पूरे देश में फैल रही है. कांग्रेस सहित कई विपक्षी पार्टियां...

पहले सियासी संग्राम और अब आचार संहिता ने लगाए नेताओं के ब्रेक

सीकर. पहले कोरोना और फिर प्रदेश में मचे सियासी घमसान ने प्रभारी मंत्रियों को प्रभार वाले जिलों से दूर कर दिया। जैसे-तैसे प्रदेश...

कंपनियों को मिल जाएगा कर्मचारियों को किसी भी क्षण निकालने का अधिकार

मोदी सरकार के नए प्रस्तावित कानून के तहत अब हर चार में से तीन कंपनियों को अपने कर्मचारियों को किसी भी क्षण कंपनी से...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here