- Advertisement -
Home News अक्षय ऊर्जा दिवस : सूरज के ‘दम’ पर दमक रहे बांसवाड़ा के...

अक्षय ऊर्जा दिवस : सूरज के ‘दम’ पर दमक रहे बांसवाड़ा के 10 हजार आशियाने, 139 गांवों में रोशनी पहुंचाने का लक्ष्य

- Advertisement -

बांसवाड़ा. जिले से गुजरती कर्क रेखा और अनुकूल परिस्थितियों से बांसवाड़ा में दस हजार आशियाने सूरज के दम यानी सौर ऊर्जा से दमक रहे हैं। इसके अतिरिक्त सिंचाई परियोजनाओं के संचालन में भी आने वाले समय में सौर ऊर्जा महती भूमिका निभाएगी। बांसवाड़ा जिले में गरीबी की रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले बीपीएल परिवार और एपीएल को बिजली से जोडऩे का जिम्मा अजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड को सौंपा गया। दीनदयाल योजना अन्तर्गत लक्ष्य आवंटित भी किए गए और उन्हें पूरा भी किया गया, लेकिन पहाड़ी पर अवस्थित और बिखरी हुई बस्तियों को रोशन करने में सहारा सौर ऊर्जा से ही मिला। दीनदयाल योजना के समाप्त होने पर बिजलीविहीन घरों को सौभाग्य योजना के अन्तर्गत लिया और वर्तमान में जिले में दस हजार घर सूरज के दम पर रोशन हो रहे हैं।
राजस्थान में यहां पानी का पावर, 1 रुपए से भी कम लागत में बनती है बिजली और…
यहां इतने घर रोशनअजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के अधीक्षण अभियंता आरआर खटीक ने बताया कि जिले में कुशलगढ़, घाटोल और बांसवाड़ा ग्रामीण क्षेत्र के 139 गांवों में 11 हजार 899 घरों को सौर ऊर्जा से जोडऩे का लक्ष्य है। अब तक नौ हजार 15 आवास सौर ऊर्जा से रोशन हो रहे हैं। 31 अगस्त तक लक्ष्य पूर्ण करने हैं और शेष आवासों के लिए सामग्री आगामी दिनों में प्राप्त होने पर शेष आवास भी सौर ऊर्जा से जोड़ दिए जाएंगे।
सिंचाई में भी सहारासरकार की किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाअभियान (कुसुम) योजना असिंचित इलाकों में सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने में सहारा बन रही है। योजना में किसान सौर ऊर्जा उपकरण लगाकर खेतों की सिंचाई कर सकते हैं। उपकरण स्थापना में 30 प्रतिशत केंद्र, 30 प्रतिशत राज्य सरकार भुगतान करती है। 30 प्रतिशत राशि डिस्कॉम ऋण के रूप में देगी और 10 प्रतिशत राशि किसान को देनी है, जो करीब चार हजार रुपए प्रति किलोवाट होगी। किसान की ओर से उपभोग के बाद शेष रही बिजली ग्रिड को भेजने पर आरईआरसी की ओर से तय दर पर राशि का भुगतान होगा, जिससे किसान की ओर से किया खर्च भी तीन वर्ष में वसूल हो जाएगा।
जब सरकारी विभाग ही बेपरवाह तो फिर कौन करेगा परवाह… छुट्टी के दिन भी सरकारी दफ्तरों में बेवजह चलते रहे विद्युत उपकरण
टीएडी भी पीछे नहींसौर ऊर्जा की अनुकूल परिस्थितियों का लाभ उठाने में जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग भी पीछे नहीं हैं। जून में सामुदायिक जलोत्थान सिंचाई योजनाओं को सौर ऊर्जा से संचालित करने की स्वीकृति दी है। इसमें छोटी सरवन पंचायत समिति की ग्राम पंचायत खजूरी में 58.49 लाख, धनाक्षरी प्रथम में 53.27, धनाक्षरी द्वितीय में 41.59, धनाक्षरी तृतीय में 39.15, पातीनगरा प्रथम में 56.46, पातीनगरा द्वितीय में 57.39, छलियावाड़ा में 41.80, तालाब में 58.29, नापला में 39.53, रेल में 37.48 लाख रुपए की स्वीकृति दी गई है। सुरवानिया पंचायत के गाउवापाड़ा में भी जलोत्थान सिंचाई योजना के लिए 58.33 लाख की स्वीकृति दी गई है।
लाभार्थी को निशुल्क सुविधासौर ऊर्जा के लिए चयनित व्यक्ति को बिजली कनेक्शन की निशुल्क सुविधा है। हालांकि प्रति कनेक्शन 32 हजार रुपए का व्यय होता है, लेकिन चयनित व्यक्ति से राशि नहीं ली जाती है। अधिशासी अभियंता हरीश मेघवाल ने बताया कि कनेक्शन के तहत लाभार्थी के यहां दो सौ वॉट का पैनल लगाया जाता है। इसके अतिरिक्त नौ वॉट का डीसी पंखा, सात वॉट की पांच एसईडी ट्यूबलाइट लगाई जाती है। जिले के घाटोल में 76, बांसवाड़ा ग्रामीण में 23 और कुशलगढ़ में 40 गांवों को सौर ऊर्जा से जोड़ा है।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

राजस्थान में आईटीआई में प्रवेश से मोहभंग, 75 फीसदी कॉलेजों की सीट खाली

सीकर. प्रदेश के आईटीआई विद्यार्थियों का ऑनलाइन प्रवेश से पूरी तरह से मोहभंग हो गया है। ऑनलाइन केन्द्रीयकृत प्रवेश के बाद भी प्रदेश...
- Advertisement -

प्रियंका गांधी चुपचाप बदलाव ला रही हैं- अभिषेक मनु सिंघवी

आजादी के बाद कांग्रेस अपने सबसे बुरे दौर में चल रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के कई नेता अपने भाषणों...

कविता:ये भारत का किसान है!

हल लेकर खेतों की ओर आज कोई निकल पड़ा है , फटी जूती, फटे कपड़े बारिश की आस में चल पड़ा है,...

कपड़ों की दुकान में लगी भीषण आग, लाखों का माल खाक

सीकर. राजस्थान के सीकर शहर में दंग की नसियां में शनिवार देर रात एक कपड़े की दुकान में आग लगने से लाखों का...

Related News

राजस्थान में आईटीआई में प्रवेश से मोहभंग, 75 फीसदी कॉलेजों की सीट खाली

सीकर. प्रदेश के आईटीआई विद्यार्थियों का ऑनलाइन प्रवेश से पूरी तरह से मोहभंग हो गया है। ऑनलाइन केन्द्रीयकृत प्रवेश के बाद भी प्रदेश...

प्रियंका गांधी चुपचाप बदलाव ला रही हैं- अभिषेक मनु सिंघवी

आजादी के बाद कांग्रेस अपने सबसे बुरे दौर में चल रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के कई नेता अपने भाषणों...

कविता:ये भारत का किसान है!

हल लेकर खेतों की ओर आज कोई निकल पड़ा है , फटी जूती, फटे कपड़े बारिश की आस में चल पड़ा है,...

कपड़ों की दुकान में लगी भीषण आग, लाखों का माल खाक

सीकर. राजस्थान के सीकर शहर में दंग की नसियां में शनिवार देर रात एक कपड़े की दुकान में आग लगने से लाखों का...

राजस्थान में यहां मूसलाधार बरसात से फसलों को नुकसान

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले में शनिवार देर शाम को कई इलाकों में मूसलाधार बरसात हुई। बरसात से कुछ दिनों से बढ़ी उमस...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here