- Advertisement -
Home News क्या वाकई वोटिंग से ठीक पहले नीतीश से डरने लगी है BJP?

क्या वाकई वोटिंग से ठीक पहले नीतीश से डरने लगी है BJP?

- Advertisement -

क्या बिहार चुनाव में नीतीश कुमार को लेकर बीजेपी में कोई असमंजस की स्थिति है? ये सवाल इसलिए उठे हैं क्योंकि 28 अक्टूबर को पहले चरण की वोटिंग से ठीक पहले बीजेपी की ओर से एक विज्ञापन सामने आया है.
इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) नजर आ रहे है लेकिन नीतीश कुमार गायब हैं. ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि क्या सत्ता विरोधी लहर की वजह से बीजेपी नीतीश कुमार से परहेज कर रही है. यही वजह है कि पार्टी नीतीश कुमार की तस्वीर का इस्तेमाल अपने पोस्टर-बैनर में नहीं कर रही है. इसको लेकर एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान ने भी टिप्पणी की है.
एलजेपी चीफ चिराग पासवान ने एक निजी समाचार चैनल से बात करते हुए कहा, मैंने अपने ट्वीट में स्पष्ट कहा है कि मेरे भाजपा के साथियों को ये समझ में आ गया है कि मुख्यमंत्री का चेहरा पोस्टर-बैनर में लगाने से नुकसान हो रहा है. थोड़ा अजीब लगता है कि जिनके नेतृत्व में आप चुनाव लड़ने जा रहे हैं उनकी तस्वीर से आप परहेज कर रहे हैं. लेकिन इससे भाजपा को लाभ होगा. ऐसा इसलिए भी है क्योंकि बीजेपी के साथी जितना उनके नेतृत्व को स्वीकार करते हैं तो कहीं ना कहीं जनता भाजपा के साथ भी नाराजगी दिखा सकती है.

आदरणीय @NitishKumar जी को प्रमाण पत्र की आवश्यकता ख़त्म होती नहीं दिख रही है।@BJP4India के साथीयों का @NitishKumar जी को पुरे पन्ने का विज्ञापन और प्रमाणपत्र देने के लिए शुक्रगुज़ार होना चाहिए और जिस तरीक़े से भाजपा गठबंधन के लिए ईमानदार है वैसे ही नीतीश जी को भी होना चाहिए। pic.twitter.com/H6462s6vq1
— युवा बिहारी चिराग पासवान (@iChiragPaswan) October 25, 2020

चिराग पासवान लगातार नीतीश कुमार पर निशाना साधते रहे हैं. रविवार को एक निजी टीवी चैनल पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि विकास करने के लिए नीयत और नीति होनी चाहिए. हमारे मुख्यमंत्री में नीयत और नीति दोनों की कमी है. मुझे नहीं लगता कि बिहार के मौजूदा सीएम के नेतृत्व में बिहार आगे बढ़ पाएगा. इसलिए नीतीश कुमार का हटना जरूरी है. नीतीश कुमार युवाओं से डरे हुए हैं और उनकी सोच युवा विरोधी है.
The post क्या वाकई वोटिंग से ठीक पहले नीतीश से डरने लगी है BJP? appeared first on THOUGHT OF NATION.

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

क्या है IPC सेक्शन 124A, जिसे कंगना केस में लगाने से हाई कोर्ट नाराज़

राजद्रोह क्या है? इसके लिए आईपीसी में एक पूरी धारा है, जिसका इस्तेमाल पहले कम किया जाता था, लेकिन पिछले कुछ समय से काफी...
- Advertisement -

किसानों पर ड्रोन से रखी जा रही नजर, ऐसा क्या है?

केंद्र द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठनों के प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर कड़ी सुरक्षा है और ड्रोन...

मुंबई से खाटूश्यामजी की 11 पैदल यात्रा की, जिन आदिवासी गांवों से गुजरे वहां भी पूजे जाने लगे बाबा श्याम

सीकर/खाटूश्यामजी. एक कहावत है जैसा रहे संग, वैसा चढ़े रंग। अमूमन ये अच्छी- बुरी संगति से किसी व्यक्ति में आए बदलाव के लिए...

शेखावाटी में फिर गिरा तापमान, कोहरे संग शीतलहर ने ठिठुराया

सीकर. शेखावाटी में सर्दी का सितम गुरुवार को भी जारी है। बुधवार को अंचल के कई इलाकों में हल्की बरसात के बाद गुरुवार...

Related News

क्या है IPC सेक्शन 124A, जिसे कंगना केस में लगाने से हाई कोर्ट नाराज़

राजद्रोह क्या है? इसके लिए आईपीसी में एक पूरी धारा है, जिसका इस्तेमाल पहले कम किया जाता था, लेकिन पिछले कुछ समय से काफी...

किसानों पर ड्रोन से रखी जा रही नजर, ऐसा क्या है?

केंद्र द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठनों के प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर कड़ी सुरक्षा है और ड्रोन...

मुंबई से खाटूश्यामजी की 11 पैदल यात्रा की, जिन आदिवासी गांवों से गुजरे वहां भी पूजे जाने लगे बाबा श्याम

सीकर/खाटूश्यामजी. एक कहावत है जैसा रहे संग, वैसा चढ़े रंग। अमूमन ये अच्छी- बुरी संगति से किसी व्यक्ति में आए बदलाव के लिए...

शेखावाटी में फिर गिरा तापमान, कोहरे संग शीतलहर ने ठिठुराया

सीकर. शेखावाटी में सर्दी का सितम गुरुवार को भी जारी है। बुधवार को अंचल के कई इलाकों में हल्की बरसात के बाद गुरुवार...

पत्रिका चेंजमेकर: धोद में स्थापित हो पंचायत समिति कार्यालय

सीकर/धोद. राजस्थान पत्रिका के चेंजमेकर अभियान ( Rajasthan Patrika change maker campaign) के तहत बुधवार को फतेहपुर (Fatehpur panchayat samiti) व धोद पंचायत...
- Advertisement -