- Advertisement -
HomeNews.... और देखते ही देखते बेगूं में बन गए बाढ़ के हालात

…. और देखते ही देखते बेगूं में बन गए बाढ़ के हालात

- Advertisement -

जिले में कई जगह चार से आठ फीट तक बारिश, बांधों में पानी की आवकचित्तौडग़ढ़/ बेगूं. यहां दो दिन से लगातार हो रही भारी बारिश के चलते बाढ़ के हालात बन गए। 24 घंटे में १३ इंच बारिश हुई। ब्राह्मणी नदी एव खातन खाली में उफान से खुरा बाजार, नए बस स्टैण्ड, मिस्त्री बाजार, पुराने बस स्टैण्ड, सदर बाजार सहित निचली बस्तियों में पानी भर गया। चारो ओर से बेगूं का संपर्क कट गया। रात 12 बजे ब्रह्माणी, नदी उफन गई। जानकारी मिलते ही लोगों ने अपना सामान सुरक्षित करना शुरू कर दिया। रात में ही पूरा बाजार खुला रहा। पूर्व में 2016 में आई बाढ़ से यहां करोड़ो रुपए का नुकसान हुआ था। किराना, खाद सहित सभी दुकानों पर नुकसान हुआ था। गुरुवार रात को जैसे ही ब्रह्माणी नदी का पानी चेंची पुलिया के ऊपर बहने लगा, लोगों ने सभी को सतर्क कर दुकानें खाली करना शुरू कर दिया। दो दिन से लगातार बारिश के चलते जलसागर बांध से छलका पानी नदी को उफान पर ले आया।डोराई बांध में पानी की आवक होने से 27 फीट भराव क्षमता के मुकाबले सुबह 2५ फीट भर गया। सुबह 5 बजे बारिश बंद होने से राहत मिली। ब्रह्माणी नदी एव खातन खाली में आए उफान से पुराने बस स्टैण्ड पर 4 फीट तक पानी भर गया। शाम तक पुराने बस स्टैण्ड से पानी उतरा। क्षेत्र के कालादेह बांध, भंवर पीपला बांध, देवलिया बांध तथा राजगढ़ तालाब लबालब हो गए। रूपारेल में 14 फीट पानी की आवक हुई।बड़ीसादड़ी. ललितसागर बांध छलक गया, सूर्यसागर तालाब में पानी की आवक शुरू हो गई। पारसोली बोरुंडी बांध में 15 फीट के मुकाबले 5 फीट पानी की आवक हुई। पारसोली पन्डेडा व देवदा की नदियों के माध्यम से वाघन बांध में भी भारी मात्रा में जल राशि पहुंची है। सोनियाना. क्षेत्र में 2 दिन से लगातार भारी बारिश के चलते हुए सुरपुर स्थित बेडच एवं वागली नदी आने से आवागमन बंद हो गया। कन्थारिया रेवलिया खुर्द सोनियाणा दोलतपुरा दोतडी खेड़ा, बानसेन -भदेसर जाने वाले रास्ते बंद है। भदेसर. क्षेत्र कई गांव में बरसाती नालों में पानी की भारी आवक के कारण सड़क मार्ग बंद हो गए। भादसोडा से आकोला, निकुम्भ चौराहा से निंबाहेड़ा, फलासिया से भदेसर, बानसेन से कंथारिया, भादसोडा से रेवलियां, सड़क मार्ग अवरुद्ध रहे। सांवरिया सरोवर 1 मीटर 50 सेमी पानी, भदेसर के हमेर सागर ,कंथारिया नापानिया, भादसोड़ा ,रेवलियां सहित सभी तालाबों में पानी की आवक हुई। राशमी. तेज बारिश से कस्बे का तालाब शुक्रवार अपरान्ह लबालब होकर छलक गया। बनास नदी में सांखली, पहुंना, ऊंचा व झाड़ीखेड़ा एनीकट पर चादर चल गई। तेज बारिश से मुरोली विद्यालय परिसर ने तलैया का रूप ले लिया। डूंगला. क्षेत्र का भानाखेड़ी बाध एवं जवाहर सागर छलक उठा व पहली बार वागन बांध में पानी आया एवं गेट तक छू गया। लगातार पानी की आवक से प्रात: 8 बजे बांध में सवा पांच मीटर भराव क्षमता के मुकाबले एक मीटर पानी आ गया था। शां पांच बजे तक यह आंकड़ा 1.30 मीटर पर पंहुच गया।निकुंभ. निकुंभ चौराहा स्थित गांगली नदी में भी पहली बार पानी आया। वागन नदी में भी पहली बार पानी आने से निकुंभ करोली मार्ग पर बने पुल पर पानी आने से मार्ग पर आवाजाही बंद हो गई। सुवानिया. बारिश के कारण गांव के तालाब पर चादर चलने लगी है। मेडीखेड़ा मार्ग पर बनी पुलिया पर भी पानी वेग से बहने लगा।सुखवाड़ा. घोसुंडा बांध में पानी की आवक जारी है। गुरुवार सुबह से बाकली नंदी में उफान के चलते बाध में पानी आवक तेज हो गई। पुलिया एक फीट पानी होने से होडा गांव के ग्रामीण गांव नहीं जा पाए। गम्भीरी बांध पर चली डेढ़ फीट चादरनिम्बाहेड़ा. कदमाली नदी में बहाव तेज हो गया। बाडी मानसरोवर बांध में भी लगातार पानी की आवक हो रही है। एसडीएम पंकज शर्मा ने बांध पर पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया। लगातार बारिश के बाद अम्बामाता खाल व निम्बा नदी की पुलिया सहित ग्रामीण क्षेत्रों की पुलिया उफनने से निम्बाहेड़ा से नीमच, मरजीवी मार्ग कनेरा सहित कई गांवों का आवागमन बंद हो गया। मध्यप्रदेश के जावद क्षेत्र में स्थित मोरवन बांध क्षेत्र में भारी बारिश के चलते गम्भीरी बांध में तेजी से पानी की आवक हुई और देखते ही देखते दोपहर सवा 12 बजे तक बांध पूरा भर गया। बाडी बांध सरोवर बंाध में भी लगातार पानी की आवक हो रही है। शाम तक इस बंाध में 5 मीटर भराव क्षमता के मुकाबले 3 मीटर पानी की आवक हो गई थी।

- Advertisement -
- Advertisement -
Stay Connected
16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe
Must Read
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -