- Advertisement -
Home News उदयपुर की झीलों का संरक्षण भूल गया प्रशासन

उदयपुर की झीलों का संरक्षण भूल गया प्रशासन

- Advertisement -

जोधपुर.
राजस्थान हाईकोर्ट (rajasthan highcourt) ने उदयपुर (udaipur) शहर की झीलों के संरक्षण को लेकर पूर्व में जारी आदेशों की पालना नहीं होने पर नाराजगी जताते हुए उदयपुर जिला कलक्टर (district collector udaipur), नगर विकास न्यास (uit udaipur) और नगर निगम (nagar nigam udaipur) को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है।
हाईकोर्ट ने उदयपुर शहर में झीलों (Lakes in udaipur city) की बदहाल स्थिति को देखते हुए वर्ष 2014 में स्वप्रसंज्ञान के आधार पर जनहित याचिका दर्ज की थी।
याचिका की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने दो न्याय मित्र नियुक्त किए, जिन्होंने समय-समय पर झीलों का निरीक्षण कर कोर्ट के सम्मुख वस्तुस्थिति रिपोर्ट पेश की।
कोर्ट ने पिछले साल 2 फरवरी को जनहित याचिका निस्तारित करते हुए उदयपुर जिला कलक्टर की अध्यक्षता में एक कमेटी गठित करने के आदेश दिए थे, जिसे हर तीन महीने में एक बार बैठक आयोजित कर झीलों के संरक्षण के लिए कदम उठाने थे।
कमेटी में जिला कलक्टर के अलावा, सचिव, यूआइटी, उदयपुर, आयुक्त नगर निगम, क्षेत्रीय अधिकारी, राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, जीपी सोनी, सेवानिवृत्त अधिशासी अभियंता-जल संसाधन विभाग, प्रवीण खंडेलवाल और अधिवक्ता संजीत पुरोहित को सदस्य बनाया था।
कमेटी की नियमित बैठक आयोजित नहीं करने पर इस वर्ष के प्रारंभ में एक सदस्य ने हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार को एक पत्र लिखकर सूचित किया था।
इस पर जनहित याचिका सोमवार को पुन: सुनवाई के लिए सूचीबद्ध हुई। न्यायाधीश संगीत लोढ़ा और न्यायाधीश पीके लोहरा की खंडपीठ में सुनवाई के दौरान न्याय मित्र संजीत पुरोहित ने बताया कि अवमानना के नोटिस के बाद जुलाई माह में एक बैठक आयोजित की, लेकिन कोई ठोस निर्णय नहीं लिया गया।
उन्होंने बताया कि उदयपुर की संपूर्ण झील प्रणाली महत्वपूर्ण है, इसकी नियमित सफाई, सौंदर्यीकरण और संरक्षण आवश्यक है। इनमें फतेह सागर झील (Fateh Sagar Lake), पिछोला झील, स्वरूप सागर(swaroop sagar), उदय सागर(udaisagar), बड़ी का तालाब और कुमारिया तालाब प्रमुख हैं।

Advertisement




Advertisement




- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

किसान बिलों के खिलाफ किसान सभा ने हर ब्लॉक में जताया आक्रोश

सीकर. केन्द्र सरकार द्वारा किसानों को लेकर पास किए गए तीन बिलों के विरोध में शुक्रवार को अखिल भारतीय किसान सभा की ओर...
- Advertisement -

कविता: रिश्ते

रिश्ते बनाये नहीं जातेबस सिर्फ और सिर्फ निभाये जाते हैंहर रिश्ते की एक अलग इम्तिहानहोती हैजिन्दा रखने के लिए उसकी एकपहचान होती हैइन्सान...

मौजूदा समय के सबसे बड़े चुनाव का ऐलान

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा है कि कोरोना के दौर में ये पहला चुनाव होगा. हमारे लिए लोगों...

सावधान! एयरपोर्ट व शिक्षक से लेकर वर्क फ्रॉम होम तक के नाम से हो रही है ठगी

सीकर. कोरोनाकाल में बेरोजगार हुए युवाओं के नौकरी के अरमानों से अब प्रदेशभर में ठगी का बड़ा खेल शुरू हो गया है। एयरपोर्ट...

Related News

किसान बिलों के खिलाफ किसान सभा ने हर ब्लॉक में जताया आक्रोश

सीकर. केन्द्र सरकार द्वारा किसानों को लेकर पास किए गए तीन बिलों के विरोध में शुक्रवार को अखिल भारतीय किसान सभा की ओर...

कविता: रिश्ते

रिश्ते बनाये नहीं जातेबस सिर्फ और सिर्फ निभाये जाते हैंहर रिश्ते की एक अलग इम्तिहानहोती हैजिन्दा रखने के लिए उसकी एकपहचान होती हैइन्सान...

मौजूदा समय के सबसे बड़े चुनाव का ऐलान

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा है कि कोरोना के दौर में ये पहला चुनाव होगा. हमारे लिए लोगों...

सावधान! एयरपोर्ट व शिक्षक से लेकर वर्क फ्रॉम होम तक के नाम से हो रही है ठगी

सीकर. कोरोनाकाल में बेरोजगार हुए युवाओं के नौकरी के अरमानों से अब प्रदेशभर में ठगी का बड़ा खेल शुरू हो गया है। एयरपोर्ट...

डैमेज कंट्रोल के लिए कमलनाथ का प्लान रेडी

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने चुनाव प्रचार और प्रबंधन के बाद समन्वय की कमान भी अपने हाथों में ले ली है. उम्मीदवारों की पहली सूची...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here