- Advertisement -
HomeRajasthan NewsSikar newsराजस्थान में भाजपा जिला मंत्री से 4.50 लाख की ठगी, मामला दर्ज

राजस्थान में भाजपा जिला मंत्री से 4.50 लाख की ठगी, मामला दर्ज

- Advertisement -

सीकर.
भाजपा की जिला मंत्री ( Fraud With BJP District Minister ) से रुई के कंटेनर भेजने के नाम पर साढ़े चार लाख ( 4.50 Lakhs Thagi ) रुपए की ठगी कर ली है। उद्योग नगर थाना पुलिस ने धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कर जांच शुरु कर दी है। थानाधिकारी वीरेंद्र कुमार ने बताया कि जमीर शेख पुत्र शेख वजीर निवासी काजीपुर, महाराष्ट्र के खिलाफ शिकायत मिली है। न्यू इंदिरा कालोनी, पिपराली रोड निवासी भाजपा जिला मंत्री ने बताया कि उनकी पिपराली रोड पर एसके एक्सपोर्टस के नाम से फर्म है। कंपनी रुई का एक्सपोर्ट किए जाने का काम करती है। उनका नागपुर में भी रूई का काम है। उन्होंने बताया कि 30 जून 2017 में उनकी सास की मौत हो गई थी।
Read More :
हनी ट्रैप: दलाल के साथ मिलकर दो बच्चों की मां ने युवक को फंसाया, 5 लाख के लिए किया ऐसा शर्मनाक काम
पूरा परिवार सीकर में ही मौजूद था। तब 16 जुलाई 2017 को घर पर जमीर शेख बैठक में शामिल होने के बहाने आया था। तब उसने कहा कि मंै रुई सप्लाई का कार्य करता है। महाराष्ट्र की रुई की क्वालिटी काफी अच्छी है। आप एक बार रुई मंगवा कर देखे। उन्होंने कहा कि वे ठग की बातों में आ गए। रुई के मोलभाव पूछने पर वजीर ने रुई के एक कंटेनर के 15 लाख रुपए बताए। उसने कुछ रुपए पहले और बाकि के माल आने के बाद देने को कहा। तब उन्होंने उसके बैंक खाते में साढ़े चार लाख रुपए जमा करवा दिए। बाकि के रुपए रुई आने के बाद देने को कहा। तब कुछ दिनों तक रुई के आने का इंतजार करते रहे। उनके पति का नागपुर में लगातार आना-जाना रहता है। वे रुई को अलग-अलग कंपनियों में सप्लाई करते है। जिससे धागे बनाए जाते है और फिर कपड़े बनाने का काम होता है। कई कंपनियों से लगातार रुई भेजने के लिए दबाव आ रहा है।
चोरी का माल लेने पर पकड़ा गया वजीरउन्होंने बताया कि एक महीने बाद ही उन्हें पता लगा कि वजीर चोरी का माल लेता है और उसे व्यापारियों को झांसे में लेकर बेच देता है। उसने एक फर्म से चोरी का माल ले लिया था। चोरी के माल का खुलासा होने पर झालना महाराष्ट्र पुलिस ने उसे चोरी के माल के साथ पकड़ लिया। कुछ दिनों के बाद वह जेल से जमानत पर बाहर आया। तब उन्होंने फोन कर वजीर को रुई भेजने के लिए कहा। उसने कुछ दिनों के अंदर माल सीकर भेजने की बात कहीं। माल नहीं आने पर उन्होंने वजीर से साढ़े चार लाख रुपए मांगे। तब उसने कहा कि काम बंद होने के कारण अभी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। जल्द ही रुपए लौटा देंगे। दो-चार दिन में रुपए लौटाने की बात बोलकर वह समय निकालता रहा। बाद में उसने फोन भी उठाने बंद कर दिए। अब वह रुपए लौटाने से मना कर रहा है।

Advertisement
Advertisement

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

- Advertisement -

Related News

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here