- Advertisement -
HomeRajasthan Newsशिक्षा विभाग में अब शुरू होगा तबादलों का दौर, गाइड लाइन पर...

शिक्षा विभाग में अब शुरू होगा तबादलों का दौर, गाइड लाइन पर काम शुरू

- Advertisement -

आजकल राजस्थान.

लोकसभा चुनाव की आचार संहिता हटने के तुरंत बाद ही शिक्षा विभाग में तबादलों का दौर शुरू होगा। इसे लेकर शिक्षा विभाग में हलचल तेज हो गई है। तबादलों के लिए गाइड लाइन तैयार की जा रही है। इस बार ग्रीष्मावकाश के दौरान ही तबादलों की प्रक्रिया पूरी होने की बात पर शिक्षा मंत्री ने भी मुहर लगाई है।

शिक्षा विभाग में तबादले पूर्ववर्ती सरकार की तरह प्रार्थना पत्र लेकर किए जाएंगे अथवा अन्य किसी पैटर्न पर, इसका खाका खींचा जा रहा है।

विधानसभा चुनाव से पहले पिछली भाजपा सरकार ने तबादलों से रोक हटाकर बड़े पैमाने पर शिक्षा विभाग में तबादले किए थे। शिक्षा विभाग में तबादलों के लिए ग्रीष्मावकाश का समय ही तय है, ताकि बीच सत्र में स्थानांतरण से शिक्षण व्यवस्था प्रभावित नहीं हो।

प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद से अभी तक शिक्षा विभाग में तबादले नहीं हुए हैं। शिक्षा निदेशालय में जहां कर्मचारी-अधिकारी तबादलों के लिए गाइड लाइन तैयार करने और चुनाव से ठीक पहले की तबादला सूचियों की रिपोर्ट बनाने में जुटे हैं, वहीं शिक्षक नेता भी स्कूलों में अवकाश के बाद शिक्षा निदेशालय के चक्कर लगाने लगे हैं।

Read More:

तबादला मापदंड तय होंगे

शिक्षा मंत्री गोविन्दसिंह डोटासरा ने आजकल राजस्थान से बातचीत में स्वीकार किया कि तबादलों के लिए गाइड लाइन तैयार करने का काम चल रहा है। लोकसभा चुनाव की आचार संहिता हटने तक इस सत्र के तबादलों के लिए नीति तय हो जाएगी। वरिष्ठ अधिकारियों व शिक्षाविदों से बात कर तबादलों के लिए मापदंड तय किए जा रहे हैं।

नीति से करेंगे तबादले

भाजपा सरकार ने शासन के पांच साल में तबादलों के लिए कोई नीति नहीं बनाई गई। ऐसे में तबादलों में पूर्ण पारदर्शिता के लिए राज्य सरकार नीति बनाएगी। शिक्षण सत्र पर तबादलों का असर नहीं हो, इसके लिए शिक्षकों के तबादले ग्रीष्मावकाश के दौरान ही किए जाएंगे।

गोविन्दसिंह डोटासरा, शिक्षा मंत्री, राजस्थान सरकार

वसुंधरा सरकार ने भी लिए थे आवेदन

पिछली bjp सरकार ने शिक्षकों के तबादलों के लिए अप्रेल-2018 में आवेदन लिए थे। इसमें लाखों तृतीय श्रेणी शिक्षक से लेकर प्रिंसिपल तक ने आवेदन किए थे। शिक्षा निदेशालय ने आवेदन भी ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से लिए थे। तब विधायक और सांसदों की डिजायर के बिना ही आवेदन लिए गए। इनके आधार पर तत्कालीन शिक्षामंत्री की सहमति के बाद तबादला सूचियां जारी की गई।

- Advertisement -
- Advertisement -
Stay Connected
16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe
Must Read
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -