- Advertisement -
HomeRajasthan NewsCrimeपिता की संपत्ति में हिस्सा मांगने पर महिला पर 51 हजार रु....

पिता की संपत्ति में हिस्सा मांगने पर महिला पर 51 हजार रु. जुर्माना लगा जाति से बाहर किया

- Advertisement -

आजकलराजस्थान / चित्तौड़गढ़

जाती पंचायतों के मनमाने फैसले आजादी के70 साल बाद भी जारी हैं। धनेतकलां गांव में भी जमीन के विवाद को लेकर जाति पंचायत द्वारा एक महिला और उसकेपरिवार को समाज से बाहर करने का मामला सामने आया है। इस आशय के परिवाद पर सदर थाना पुलिस जांच कर रही है।

इसके अनुसार कथित पंचों को पूर्व में पाबंद किया जा चुका है।लक्ष्मीपुरा हाल मुकाम धनेतकलां की भैरीबाई व पति पप्पूलाल सुथार कई ग्रामीणों व रिश्तेदारों के साथ गुरुवार को जिला मुख्यालय पहुंचे। कलेक्टर व एसपी को दिए परिवाद में बताया गया कि 10 जून रात 8-9 बजे धनेतकलां में समाज के कुछ लोगों ने पंचायत बैठाकर उसे व उसके पति को पीहर धनेतकलां बुलाया। वहां उसके द्वारा पिता की पुश्तैनी जमीन पर हक छोड़ने का दबाव बनाते हुए डराया धमकाया।पंचों ने कहा कि यदि कोर्ट केस नहीं उठाया तो तेरे परिवार को जाति से बहिष्कृत रखा जाएगा।

परिवाद लेकर गुरुवार को कलेक्ट्रेट आए भैरीबाई व पति पप्पू सहित अन्य लोगों को जब पता चला कि आला अधिकारी इस समय पुलिस लाइन में हैं तो वे सब वहां पहुंच गए। जहां निरीक्षण पर आए डीआईजी व एसपी से मिलकर ज्ञापन देने की मांग करने लगे। इस पर सदर सीआई नवनीत व्यास ने पहुंचकर समझाया और निष्पक्ष कार्रवाई का आश्वासन दिया।

क्या था मामला ?: पिता की जमीन पर हक का दावा पेश किया, समाज इसे सही नहीं मानतामहिला के अनुसार उसके पिता व अन्य बहनें पुश्तैनी जमीन को किसी के नाम नहीं करा दे और अन्य व्यक्तियों को न बेच दे। इसलिए उसके द्वारा न्यायालय में हक हिस्से का दावा पेश किया गया। इससे खफा होकर समाज की पंचायती बैठी। उसके व उसके पति को डरा धमकाकर कहा गया कि यह केस उठा ले। अन्यथा परिवार को समाज में नहीं आने जाने देंगे।आरोप: पंचों के रुतबे के चलते पुलिस ने भी थाने में समझौता करने का दबाव बनाया{पंचों पर: 51 हजार का जुर्माना लगाते हुए जबरन हस्ताक्षर करवाए… परिवाद के अनुसार पंचों ने तुगलकी फैसला सुनाते हुए महिला को गाय के स्थान पर बिठा दिया। केस नहीं उठाने पर 51 हजार रुपए का जुर्माना सुना दिया। परिवार को बदनाम करने की धमकी दी। भैरीबाई ने आरोप लगाया कि उसे व पति को डरा धमकाकर कर गलत तरीके से हस्ताक्षर करवा लिए। हमें मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है।{पुलिस पर: परिवाद पर थाने में बुलाया तो वहां भी आरोपियों ने बनाया दबाव… महिला का कहना है कि पंचों के दबाव को लेकर उसने अगले दिन 11 जून को ही एसपी को परिवाद दिया था। इसके बाद सदर थाना पुलिस ने उसे व आरोपियों को बुलाया। सभी आरोपी हम सलाह होकर 40-50 लोगों के साथ आए। वहां भी दबाव बनाने लगे। बाहर निकलते ही कहने लगे कि अब इन लोगों को किसी ने समाज में बुलाया तो उसको भी जाति बाहर कर देंगे।तीन दिन पहले जमीन विवाद पर ही जाति पंचायत में हुई वृद्ध की हत्याजिले में जाति पंचायतों द्वारा आपसी विवाद सुलझाने के लिए बैठने व फरमान सुनाने के मामले आते रहे हैं। तीन दिन पहले ही निंबाहेड़ा उपखंड क्षेत्र के कनेरा थानांतर्गत बंजारा समाज की पंचायत में ऐसा बखेड़ा हुआ कि पत्थर मारकर एक वृद्घ की हत्या कर दी गई। वहां भी दो पक्षों के बीच जमीन पर कब्जा करने का ही विवाद था। जिसे सुलझाने के लिए जाति पंचायत बैठ गई। मृतक भी पंच की भूमिका में आया था।

- Advertisement -
- Advertisement -
Stay Connected
16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe
Must Read
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -