- Advertisement -
HomeNewsAajkal Bharatनागौर:हनुमान बेनीवाल ज्योति मिर्धा किन किन वोटों के भरोसे

नागौर:हनुमान बेनीवाल ज्योति मिर्धा किन किन वोटों के भरोसे

- Advertisement -

देश भर में मोदी के नाम व चेहरे पर वोट मांगने वाली भाजपा ने राजस्थान का मिशन-25 पूरा करने के लिए नागौर सीट पर राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (रालोपा) के हनुमान बेनीवाल पर दांव खेला है। बेनीवाल का मुकाबला कांग्रेस की ज्योति मिर्धा से है। मिर्धा परिवार की नागौर सीट पर दिग्गज नेता स्व. नाथुराम मिर्धा की पाैत्री डाॅ. ज्योति मिर्धा को महिलाओं व 40 प्लस के मतदाताओं का साथ मिल रहा है। जबकि भाजपा-रालोपा गठबंधन के बेनीवाल का युवाओं में जबर्दस्त क्रेज है। 42 डिग्री तापमान और 18 घंटे के चुनावी दौरे में मिर्धा कोल्ड कॉफी और बेनीवाल ग्लूकोज के पैकेट लेकर चलते हैं।ज्योति मिर्धा के स्वागत में हर जगह महिलाएं नागौर चावे-बाबा री पोती ज्योति आवे.. गीत गाती मिलीं। वह महिलाओं के बीच जाती हैं और मर्दों से कहती हैं कि अपने मुंह दूसरी तरफ कर लो भाई, इन बहुओं को घूंघट उठा कर मेरे साथ फोटो खिंचवाना है। जैसे ही पुरुष दूसरी ओर देखते हैं, महिलाएं ज्योति के सिर और चेहरे पर स्नेह भरा हाथ फेरने लगती है। ज्योति कहती हैंकि 7 मई (अक्षया तृतीया) को शादियां होंगी। 6 मई को बहनों का मायरा भरा जाएगा। ऐसा ना हो कि बहुएं मायरा गाती रह जाए और मुझे वोट देना भूल जाए। मेरा मायरा भर देना, मैं जीतने के बाद मायरा मीठा करने आउंगी।रालोपा प्रत्याशी बेनीवाल के साथ दौरे में देखा कि युवा उन्हें गाड़ी से उतरते ही कंधों पर उठा लेते हैं। एक सभा में चार घंटे देरी से आए बेनीवाल देरी के लिए माफी मांगते हैं। वे कहते हैं कि कई सीटों की जिम्मेदारी है। समय लग गया। छोटे भाई को माफ कर दें। बेनीवाल का यही अंदाज लोकप्रिय बना रहा है, लोग भीषण गर्मी में जिंदाबाद के नारे लगाते हैं। वह कहते हैं कि बहन का मायरा दो बार भर चुके हो, इस बार भाई को दिल्ली भेजना है। चार टायर का चिह्न मिला। ये टायर गाड़ी में लगेंगे तो गाड़ी दौड़ेगी।बेनीवाल जाट वोटों के ध्रुवीकरण का प्रयास कर रहे हैं और ज्योति उसे रोकने में जुटी हैं। पांच लाख जाट वोट हैं। पिछले चुनाव में मिर्धा भाजपा के सीआर चौधरी से 75 हजार वोटों से हारी थीं। तब बेनीवाल निर्दलीय थे और 1.50 लाख वोट ले गए थे।इसलिए हॉट सीट है नागौर भाजपा ने सिर्फ 6 माह पहले बनी रालोपा से गठबंधन किया है। भाजपा छोड़कर नई पार्टी रालोपा बनाने वाले बेनीवाल के लिए भाजपा ने 2014 में अपनी जीती हुई एक सीट छोड़ी है। भाजपा की नजर प्रदेश की जाट बहुल 8 से 10 सीटों पर है। बेनीवाल के जरिए भाजपा जाट समीकरण को साधना चाहती है। भाजपा ने बेनीवाल को प्रचार के लिए हेलिकॉप्टर दिया है।

सुबह 8 बजे ही मिर्धा ले लेतीं हैं पहली सभा

मिर्धा सुबह 7 बजे नाश्ते के बाद पराठा रोल पैक कर गाड़ी में रखवा लेती हैं। आठ बजे वह पहली सभा में पहुंचती है और दिन भर में 10-12 गांव का दौरा करती हैं। बेनीवाल 9 बजे उठते हैं क्योंकि रात 3 बजे सोते हैं। दो रोटी खाकर घर से निकलते हैं और रात 10 बजे तक दौरे करते हैं।

- Advertisement -
- Advertisement -
Stay Connected
16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe
Must Read
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -