- Advertisement -
HomeRajasthan Newsकैदी की पुलिस हिरासत में मौत

कैदी की पुलिस हिरासत में मौत

- Advertisement -

मांगरोल. प्राण घातक हमला करने के मामले में सजायाफ्ता जिले के मांगरोल निवासी कैदी मोहम्मद रमजान (52) की शुक्रवार रात कोटा के न्यू मेडिकल कॉलेज अस्पताल में उपचार के दौरान मृत्यु हो गई। इस मामले में शनिवार सुबह परिजनों व मुस्लिम समाज की ओर से पुलिस चालानी गार्ड पर कैदी के साथ मारपीट करने तथा आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज करने की मांग को लेकर मांगरोल थाने पर तहसीलदार को ज्ञापन दिया। मृतक का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। इसमें वह रोते हुए पुलिस पर मारपीट करने की पीड़ा बयां कर रहा है। अधूरा रह गया हज यात्रा का सपना

करीब तीस साल पहले रमजान का उसके दोस्त से झगड़ा हुआ था। झगड़े में दोनों एक दूसरे पर चाकू से जानलेवा हमला किया तथा दोनों पक्षों की ओर से क्रोस केस दर्ज कराया गया। जमानत के बाद दोनों पक्षों में राजीनाम हो गया था, लेकिन राजीनामा के दस्तावेज न्यायालय में पेश नहीं होने से प्रकरण का निस्तारण नहीं हुआ तथा रमजान न्यायालय से फरार घोषित कर दिया गया। न्यायिक प्रक्रिया से बेखबर रमजान कस्बे में ही रह रहा था। करीब छह माह पहले उसने हज यात्रा जाने के लिए पासपार्ट बनाने की प्रक्रिया शुरू की। इस पर मांगरोल थाना पुलिस ने रिकॉर्ड खंगाला तो उसके फरार होने का पता लगा। इसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर न्यायालय के आदेश पर 28 अगस्त 2018 को बारां जिला कारागार में भेज दिया था।

एक बार तबीयत बिगड़ी तो फिर नहीं सुधरी

बारां जिला कारागार में तबीयत खराब होने पर उसे कोटा मेडिकल कॉलेज स्थित कैदी वार्ड में भर्ती करा दिया। वहां तबीयत में सुधार नहीं हुआ तो उसे जयपुर भर्ती करा दिया गया। वहां से डिस्चार्ज करने पर वापस कोटा मेडिकल कालेज के कैदी वार्ड में भर्ती करा दिया। वहां भी इलाज जारी रहा, इसी बीच पुलिस अभिरक्षा में शुक्रवार देर रात उसका दम टूट गया। मृत्यु से पूर्व रमजान ने परिजनों को बताया कि तीन पुलिसकर्मियों ने मोटे पाइपों से उसके साथ मारपीट की। इससे उसकी हालत बिगड़ी थी। थाने में पहुंच दिया ज्ञापन
मुस्लिम समुदाय की ओर से पुलिस अभिरक्षा में पिटाई करने से हुई मौत के मामले की जांच कराने, 50 लाख मुआवजा देने व पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करने की मांग को लेकर राज्य के गृहमंत्री के नाम तहसीलदार गजानंद जांगिड़ को पुलिस थाने में ज्ञापन दिया। ज्ञापन देने गए प्रतिनिधि मंडल में हाजी रफीक अहमद, अशफाक हुसैन, अमित चौपड़ा, अशफाक, वक्फ कमेटी के एहसान अहमद, अलीमुद्दीन एवं डॉ. सीमा, रफीक बाड़ी, सोहेल खान, अशफाक भाई समेत बड़ी संख्या में समाज के लोग शामिल थे।

- Advertisement -
- Advertisement -
Stay Connected
16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe
Must Read
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -